Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
    | | Contact: 8407908145 |
    Published On : Mon, Jan 6th, 2020

    नागपुर पुलिस रिपोर्ट: 2018 की तुलना में 2019 में विभिन्न अपराधों में दिखी कमी

    नागपुर- नागपुर शहर में पुलिस विभाग ने एक रिपोर्ट जारी की है। जिसमें 2018 और 2019 में हुए अपराधों का डेटा दिया गया है। यह जानकारी देने के लिए नागपुर शहर के पुलिस आयुक्त डॉ. भूषणकुमार उपाध्याय द्वारा पत्र परिषद् का आयोजन किया गया था। जिनके अनुसार 31 दिसंबर 2018 के आखिर तक मर्डर की कोशिश में 77 पर गुन्हा दाखिल हुआ, जिसमे 77 मामलों का खुलासा हुआ है, डकैती के 25 मामलों में 25 का खुलासा हुआ, डकैती की पूर्व तैयारी में 29 मामले दर्ज हुए, जिसमे 29 का खुलासा हुआ, चोरी के 243 मामलों में 154 का खुलासा हुआ, घरफोडी में 858 मामलों में 258 का खुलासा, कुल चोरी के 2629 मामलो में 859 मामलों में खुलासा हुआ है। वाहन चोरी में 1436 मामले दर्ज हुए, जिसमें 398 मामले में खुलासा हुआ है।फिरौती के 43 मामलों में से 43 के खुलासे हुए है। जालसाजी के 471 मामलों में 313 खुलासे, दंगे में 151 मामलों में 147 में खुलासा, हमले में जख्मी के 1083 मामलों में 1045 खुलासे हुए, बलात्कार में 166 मामलों में 166 का खुलासा हुआ है। शासकीय नौकर पर हमले के 87 में से 87 का, विनयभंग के 378 में से 358, प्राणघातक दुर्घटना के 270 में से 196, अन्य धाराओ में 1816 में से 1359, विश्वासघात के 50 में से 42 और विवाहिता के साथ धोखे के 132 मामलों में से 132 के खुलासे हो चुके है। यह डेटा 2018 का है। इसी तरह 2019 में इन विभिन्न अपराधों में कमी आने की बात कही गई है।

    इस पत्र परिषद् में जॉइंट कमिश्नर रविंद्र कदम, एडिशनल कमिश्नर शशिकांत महावरकर, एडिशनल कमिश्नर (क्राइम ) नीलेश भरने, डीसीपी नीलोत्पाल, डीसीपी विनीता साहू, डीसीपी (क्राइम) गजानन राजमाने, डीसीपी (ट्रैफिक) चिन्मय पंडित, डीसीपी निर्मला देवी मौजूद थे।

    31 दिसंबर 2019 के आखिर तक इन्ही विभिन्न मामलो में कुल 7722 मामलों से 5006 मामलों का खुलासा हुआ है। 2018 में कुल मामले 8585 हुए थे। जिसमे 5367 मामलों में खुलासा हुआ था। जिसके कारण 2018 की तुलना में पिछले वर्ष कुल अपराधों में कुल 863 की कमी आयी है। जो करीब 10 प्रतिशत है।

    डिटेक्शन का प्रतिशत-

    सन 2018 में अपराधों के खुलासे का प्रतिशत 63 प्रतिशत था, जबकि 2019 में यह 69 प्रतिशत पर पंहुचा है। अपराधों के खुलासो के मामले में 6 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई है।

    प्रतिबंधक कार्रवाई-

    प्रतिबंधक कार्रवाई में दिसंबर 2018 तक 8318 कार्रवाई की गई थी। जबकि 2019 में दिसंबर तक 9855 मामलो में प्रतिबंधक कार्रवाई की गई है। इसमें 1537 की बढ़ोत्तरी हुई है।

    एमपीडीए अंतर्गत कार्रवाई-

    इसके तहत 2018 में कुल 13 लोगों पर लोगों पर कार्रवाई की गई थी। जबकि 2019 में कुल 33 लोगों पर कार्रवाई की गई है। इसमें 20 कार्रवाई ज्यादा की गई है।

    मकोका के अंतर्गत कार्रवाई –

    इसके तहत 2018 में कुल 7 आपराधिक गैंग्स पर कार्रवाई की गई थी। जबकि 2019 में कुल 13 गैंग्स के लोगों पर यह कार्रवाई की गई है। इसमें में भी 6 लोगों की बढ़ोत्तरी हुई है।

    इसके बाद हत्यार कानून में 2018 में 501 कार्रवाई हुई थी, 2019 में 821 कार्रवाई हुई। शराबबंदी कानून में 2793 कार्रवाई हुई, जिसमें 2019 में 4204, नशीलेपदार्थ कानून के तहत 87, 2018 में और 115, 2019 में हुई है। देहव्यापार में भी 2018 में 18 और 2019 में 25 कार्रवाई की गई है।

    2019 में हत्यार कानून के अंतर्गत दर्ज किए गए अपराधों में फ़ायरआर्म्स रखने के मामले में 31 मामले दर्ज किए गए। जिसमे 17 पिस्टल, 10 देशी कट्टे , 2 रायफल, 2 माउज़र, 3 रिवाल्वर और 52 कारतूस जब्त किए गए थे। इसमें आरोपियों की गिरफ्तार की संख्या 41 रही।

    नागपुर शहर पुलिस द्वारा 2019 में पुलिस द्वारा शुरू किए गए उपक्रम

    भरोसा सेल, हितगुज कार्यक्रम, दामिनी पथक, छात्र पुलिस उपक्रम,केयर, कम्युनिटी पोलिसिंग, होमड्रॉप सुविधा विभिन्न लोगों के लिए शुरू की गई थी।

    2020 में किए जानेवाले उपक्रम में महिला सुरक्षा को लेकर विभिन्न योजनाएं और पुलिस कल्याण के लिए प्रयत्न किए जाएंगे।


    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145