Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
    | | Contact: 8407908145 |
    Published On : Wed, Aug 1st, 2018

    नए पुलिस आयुक्त भूषण कुमार उपाध्याय ने संभाला पदभार


    नागपुर:महाराष्ट्र में हाल ही में पुलिस प्रशासनिक अधिकारियों के तबादलों के बाद नागपुर में नए पुलिस आयुक्त डॉ. भूषण कुमार उपाध्याय को नियुक्त किया गया है जिन्होने बुधवार को अपना पदभार संभाल लिया है।


    Dr. K Venkatesham outgoing CP of Nagpur Welcoming New CP Dr B K Upadhyay


    नए सीपी के लिए नागपुर में कुछ चुनौतियाँ हैं जिनका सामना उन्हें प्राथमिकता के आधार पर करना होगा। खास तौर पर तब जब राज्य के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडनवीस और केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी नागपुर से हैं।

    ऑडिशनल सीपी शामराव दिगावकर ने उनका स्वागत किया


    नागपुर टुडे पेश कर रहा है वो चुनौतियां जो सीपी के समक्ष होंगी

    – शहरभर में शुरू न्यायालय के आदेश पर अनाधिकृत धार्मिक स्थलों के निर्मूलन में विरोधकों को संभालने एवं मनपा-नासुप्र को सहयोग

    – विगत वर्षों भूमाफियाओं के लिए विरुद्ध एसआईटी गठित की गई,२५०० के आसपास मामले दर्ज हुए,जिसमें से ६०० के आसपास निवेदन के साथ न्याय हुआ.बाद में एसआईटी रद्द कर दी गई और शेष मामलों को सम्बंधित थाने स्तर पर सुलझाने का निर्देश जारी किया गया। इस निर्णय से सभी थानों के बाछे खिल गए.शेष आवेदन सह रोजाना किसी न किसी थाने में मामले दर्ज हो रहे लेकिन निवेदनकर्ताओं को न्याय नहीं मिल रहा.

    – प्रशासन द्वारा चोरी हुई चीजों के लिए गुम होने का मामला दर्ज किया जाने से अमूमन मामले पेंडिंग हैं.

    – पुलिस विभाग के थानों सह अन्य विभागों में वर्षों से कुंडली मार कर बैठे कर्मियों-अधिकारियों के कार्यशैली में आया फर्क,आम जनता में खौफ

    – जनता-जनार्दन पुलिस छोड़ सब जगह ( असामाजिक तत्वों ) जाने को तैयार

    – नकली शराब,गुटके,सिगरेट की निर्मिति व बिक्री,अवैध धंधों को बढ़ावा

    -प्रशासन की शह पर देर रात तक बार,होटल में खुलेआम शराब परोसे जाते हैं

    – जाबाज आला अधिकारियों,कर्मियों को राजनैतिक दबाव में मुख्यधारा से हटाकर मुख्यालय आदि तबादला कर उन्हें निष्क्रिय किया जा रहा

    – सुरक्षा हेतु व्यवसायिक कार्यक्रम,उपक्रम में पुलिस की मदद के बजाय गैरकानूनी रूप से बाउंसर का इस्तेमाल कर रहे

    – चौराहों पर सिग्नल बंद या पुलिस नदारत आम बात हैं,वहीं वीवीआईपी दौरे के मार्ग पर एक्टिव दिखना दोहरी नीति

    – वरिष्ठ नागरिक व महिलाएं कागजों पर सुरक्षित,शिकायत करने पर चक्कर खिलाना आदत में सुमार

    – छापे का माल में से जरूरतानुसार निकालकर शेष का जप्ती दिखाना

    उल्लेखनीय यह हैं कि नए पुलिस आयुक्त को उक्त मामलातों सह अनगिनत अनैतिक समस्याओं को सुलझाने सह पुलिस सहित जानहित में सामंजस्य निर्माण करना आज तो टेढ़ी खीर नज़र आ रही.


    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145