Published On : Tue, May 1st, 2018

ऑनलाइन क्रिकेट सट्टे की खायवली जोरों पर

Cricket Betting

Representational Pic

नागपुर: अतिसंवेदनशील शहर के नाम से कामठी शहर की जिले में अपनी अलग पहचान है. अवैध धंधों के गढ़ के रूप में यह शहर जिले में कुख्यात है. पिछले कुछ माह से पुलिसिया छत्रछाया में अवैध धंधों ने अपने पांव तेजी से फैलाते हुए सम्पूर्ण शहर को प्रभावित करना शुरु कर दिया है.

पुलिस सूत्रों की माने तो स्थानीय पुलिस इस धंधे के संचालकों से हफ्ता लेकर आपराधिक प्रवृति को बढ़ावा देने तथा अवैध धंधा चलाने के लिए प्रमुख भूमिका निभाने का काम कर रही है. इन दिनों जितने भी अवैध धंधे चल रहे हैं, वह सब पुलिस कर्मियों व उनके मातहतों की मिलीभगत और पुलिस की छत्रछाया में चल रहा है. अवैध कारोबार जारी रखने के बदले में अवैध धंधे वालों से हफ्ता-महीना वसूल कर उन्हें अपना पूर्ण संरक्षण प्रदान कराने का जिम्मा पुलिस कर्मी लिए रहते हैं.

अवैध धंधों को संरक्षण देने में डीबी स्क़ॉड के कर्मी ज्यादातर लिप्त पाए जाते हैं. स्क़ॉड प्रमुख के मार्गदर्शन में पुलिस कर्मी अपने साथ-साथ वरिष्ठ अधिकारियों को भी उनकी मांग के अनुरूप नियमित खुश करते रहते हैं. इन अवैध धंधों में क्रिकेट सट्टे की खायवाली, मध्यप्रदेश की शराब, नकली शराब, सूखा नशा, गोमांस आदि का समावेश है. नशे के कारोबारी नशीली पदार्थों के शौकीनों को नशा ऊंचे दामों में उपलब्ध करवाते हैं. यहां के कुछ पुलिस अवैध गोमांश के विक्रेताओं को संरक्षण दिए हुए है.

जूना कामठी पुलिस थाना अंतर्गत आने वाले क्षेत्रों में क्रिकेट सट्टा, जुआ व गांजा की बिक्री पूर्री शबाब पर है. इस थाने के पुलिस कर्मी कसाईपुरा क्षेत्र, नया गोदाम, गोल बाजार, मच्छी पुल, नया नगर, फेरुमल चौक, नेताजी चौक, दुर्गा चौक, मोटर स्टैंड, बस स्टॉप आदि आसपास के क्षेत्रों में तैनातगी के लिए सक्रिय रहते हैं. जूना कामठी थाने के डीबी स्क़ॉड का प्रमुख आए दिन अवैध धंधे वालों के साथ नज़र आ जाएगा. इतना ही नहीं मयखानों व ढाबों में भी इनकी नियमित उपस्थिति और वसूली चर्चा में है. यह तब से डीबी का मुखिया है जब से कामठी पुलिस थाना नागपुर शहर पुलिस आयुक्तालय में समाहित किया गया है. इसके पूर्व यह ग्रामीण पुलिस में भी डीबी स्क़ॉड में ही था, दरअसल इसे अवैध धंधे वालों का संरक्षण होने से हमेशा इसी विभाग में तैनातगी की जा रही है. अर्थात अवैध धंधें वालों की पहुंच पुलिस विभाग में अधीक्षक कार्यालय तक बताई जा रही है, इसलिए वे अपने मनमाफिक पुलिस कर्मियों की तैनाती डीबी स्क़ॉड में कराते रहे हैं.

सूत्र यह भी बतलाते हैं कि खबरी द्वारा बताए गए अड्डों पर छापामार कार्रवाई कर मोटी वसूली का क्रम जारी है. देशी-विदेशी शराब की अवैध बिक्री सुबह ५ बजे से लेकर देर रात तक कामठी में होती है. गांजा प्रत्येक प्रमुख नुक्कड़ पर बेचा जा रहा है.

इन दिनों आईपीएल क्रिकेट की खायवाली जोरों पर है. ऑनलाइन क्रिकेट सट्टा आदि पर पुलिस का कोई नियंत्रण नहीं है. कामठी के वरिष्ठ नागरिकों ने उक्त अवैध धंधों से नई पीढ़ी को निजात दिलाने के लिए पुलिस आयुक्त से गुजारिश की है. साथ ही दोषी पाए जाने वाले पुलिस कर्मियों की पुलिस मुख्यालय में बदली करने की मांग की है.