Published On : Wed, Apr 3rd, 2019

नागपुर-गोंदिया सियासत पर सट्टा

Advertisement

देश में बीजेपी के वापसी का दावा

गोंदिया: देशभर में 2019 के लोकसभा चुनावों को लेकर प्रचार अभियान तेज है। पहले चरण के लिए 20 राज्यों की 91 सीटों पर 11 अप्रैल को मतदान होना है। लेकिन चुनाव नतीजे आने से पहले ही तमाम तरह की अटकलें लगने लगी है। क्रिकेट पर सट्टा स्वीकार करनेवाले बुक्की अब चुनावी दौर में सियासत पर भी सट्टा स्वीकार करने में जुट गए है। गोंदिया तथा नागपुर के 3 बुक्कीयों ने दावा किया कि, देश में बीजेपी की वापसी हो रही है? सट्टा लगाने के शौकिन भी सबसे अधिक सियासत का दांव एनडीए गठबंधन पर ही खेल रहे है।

Advertisement

महाराष्ट्र-मध्यप्रदेश में बीजेपी का पलड़ा भारी, छत्तीसगढ़ में कांटे की टक्कर
सट्टेबाजों के भविष्यवाणी की मानेें तो, महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना गठबंधन का पलड़ा भारी रहेगा। इस बार कांग्रेस, राष्ट्रवादी कांग्रेस , रिपा, पिरिपा, खोरिपा महागठबंधन को महाराष्ट्र में 20 से 22 सीट मिलने का दुगना भाव दिया जा रहा है। सट्टा बाजार के मुताबिक , महाराष्ट्र में सबसे बड़ा सियासी नुकसान युपीए महागठबंधन को दलित वंचित आघाड़ी और बसपा-सपा के मैदान में उतरने से हो रहा है।

Advertisement
Advertisement

गोंदिया से सटे पड़ोसी राज्य छत्तीसगढ़ में सट्टा बाजार कांटे की लड़ाई दिखा रहा है। सट्टेबाजों की भविष्यवाणी है कि, दोनों को सीट बराबर की आएगी, इसलिए सट्टा बाजार दोनों को बराबर का भाव दे रहा है। गोंदिया से लगे पड़ोसी राज्य मध्यप्रदेश में विधानसभा का चुनाव हारने के बाद लोकसभा चुनाव में बीजेपी बड़े अंतर से जीत दर्ज कर वापसी कर रही है, एैसा सट्टेबाजों का दावा है।

यूपी में भाजपा को 30 से 40 सीट के नुकसान का अनुमान
महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश इन 2 राज्यों में बीजेपी के पक्ष में दावे के बाद सट्टा बाजार उत्तरप्रदेश में बड़े बदलाव के संकेत दे रहा है। बुक्कीयों की मानें तो यहां बसपा-सपा और राष्ट्रीय लोकदल (आरएलडी) के महागठबंधन को फायदा पहुंच रहा है। वहीं इस गठबंधन की वजह से उत्तरप्रदेश में बीजेपी को 30 से 40 सीटों के नुकसान का अनुमान लगाया जा रहा है, जिसकी भरपाई भाजपा उड़ीसा, पश्‍चिम बंगाल, नार्थ ईस्ट के राज्यों और कर्नाटक-केरल से कर सकती है तथा सरकार बनाने के लिए लगने वाला 272 सीट का जादूई आंकड़ा नरेंद्र मोदी बिना बैसाखियों की मदद से ही हासिल कर लेंगे तथा एनडीए में शामिल घटक दलों के साथ आपसी तालमेल कायम कर मोदी की सरकार फिर से बनती दिख रही है, एैसा सट्टा बाजार का अनुमान है। बहरहाल यह तो हुई सट्टाबाजार की भविष्यवाणी किन्तु असल परीक्षा का पिटारा तो 23 मई को खुलेगा, कितने नंबर किस पार्टी के खाते में आते है ? और किसके हाथ मे सत्ता की चाबी पहुंचती है ? यह देखना दिलचस्प होगा।

क्या इस बार गोंदिया में मोदी का जादू चलेगा?
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लोकसभा चुनाव के मुद्देनजर भाजपा उम्मीदवार के प्रचारार्थ आज 3 अप्रैल बुधवार को गोंदिया दौरे पर है। क्या इस बार मोदी का जादू गोंदिया सीट पर चलेगा? इसे लेकर तरह-तरह की अटकलों का बाजार गर्म है।

सट्टेबाजों की भविष्यवाणी मानें तो गोंदिया-भंडारा संसदीय क्षेत्र में एनसीपी (युपीए गठबंधन) को झटका लग सकता है? तथा मोदी के आने से माहौल पलटेगा और इसका फायदा भाजपा को होगा? वहीं एक सट्टेबाज का यह भी कहना रहा कि, मोदी के पूर्व की 2 जनसभाओं पर ऩजर डाले तो 2009 में भाजपा को यहां हार का सामना करना पड़ा वहीं अक्टू 2014 के विधानसभा चुनाव के दौरान प्र्रधानमंत्री मोदी ने इंदिरा गांधी स्टेडियम में एक ओर बड़ी रैली की लेकिन नतीजा बीजेपी के पक्ष में नहीं रहा। गोंदिया दौरे के बाद भी गोंदिया विधानसभा का बीजेपी उम्मीदवार 10 हजार 758 वोटों से चुनाव हार गया जबकि मोदी लहर के बावजूद गोंदिया सीट पर कांग्रेस के उम्मीदवार ने जीत की हैट्रिक मारी।

 

 

 

 

 

 

रवि आर्य

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
 

Advertisement