Published On : Mon, Dec 31st, 2018

नागपुर में नकली शराब के मामले में मुन्ना जैस्वाल बंधुओ को किया गिरफ्तार

Advertisement

illicit country liquor bottles

नागपुर: स्वास्थ के लिए हानिकारक और अन्य राज्यों में प्रतिबंधित शराब ब्रांडेड कंपनियों की बॉटल्स में डालकर उसकी बिक्री करने के आरोप में शराब माफिया मुन्ना उर्फ़ संजीत सुरेश जैस्वाल, प्रशांत सुरेश जैस्वाल और अमरेश जैस्वाल को धंतोली पुलिस ने गिरफ्तार किया है. इस कार्रवाई के कारण मध्यभारत के शराब-माफियायो में और शराब तस्करों में हलचल मच गई है. धंतोली पुलिस ने 200 पेटी शराब रखे टिप्पर को पकड़ा था. इसके बाद सम्राट एजेन्सी के गोदामपर पुलिस ने राज्य उत्पादन शुल्क की मदद से रेड मारी. यहाँ पर अन्य राज्यों में प्रतिबंधित शराब से निर्मित की जानेवाली बनावटी नकली शराब के बारे में पता चला. दौरान इस मामले में पुलिस ने टिप्पर चालक,मालिक के खिलाफ मामला दर्ज किया, तो वही यह मामला राज्य उत्पादन शुल्क विभाग के अधीन आने के कारण यह मामला उन्हें सौपा गया. लेकिन राज्य उत्पादन शुल्क विभाग ने जांच के नाम पर चार दिन बर्बाद कर दिए.

इसके कारण सभी तरफ चर्चा शुरू हो गई. विभाग के कुछ अधिकारी के शराबमाफियायो के साथ संबंध होने के कारण उनको जमानत मिले इसके लिए जानभूझकर इस मामले में टाईमपास करने के आरोप भी विभाग पर लगे. इसके बाद वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की जानकरी में यह मामला आने के बाद उन्होंने धंतोली पुलिस को कड़क कार्रवाई करने के आदेश दिए. उसके अनुसार धंतोली के थानेदार दिनेश शेंडे ने अपने सहकार्यो की मदद से टिप्पर चालक संदीप वरहाडे को गिरफ्तार किया है. उसके द्वारा दी गई जानकारी के बाद रविवार को मुन्ना उर्फ़ संजीत, प्रशांत, और अमरेश तीनों जैस्वाल बंधुवो को गिरफ्तार किया गया है. जैस्वाल बंधुओ के गोदाम के सामने के टिप्पर में मिली शराब हरियाणा की है ऐसी जानकारी मिली है.

Advertisement

यह शराब स्वास्थ के लिए हानिकारक होने के कारण इसका आयात करने पर और बेचने पर राज्य सरकार महाराष्ट्र ने प्रतिबन्ध लगाया है. यह और इसके साथ ही ऐसी प्रकार की घातक शराब मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, और हरियाणा समेत कुछ राज्यों में सस्ते दाम में मिलती है. जिसके कारण शराब माफिया यह प्रतिबंधित शराब नियमित रूप से नागपुर में लाते है. इसमें घातक सुंगधित रसायन मिलाकर यह विभिन्न ब्रांडेड कंपनियों के खाली बोतलों में डालते है और इसे वाइन शॉप में भेजते है. नागपुर के शराब माफिया कई दिनों से यह गोरखधन्दा कर रहे है.

इस कार्रवाई के बाद अब जैस्वाल बंधू हरियाणा के साथ ही अन्य कौन से राज्य से ये प्रतिबंधित शराब लाते है. यहाँ पर उसकी रेबोटलिंग कैसी की जाती थी. यहाँ से वर्धा, चंद्रपुर, गडचिरोली समेत और कहा कहा भेजी जाती थी. और किसके पास भेजी जाती थी. इस गोरखधंदे में और कौन शामिल है. इसकी जांच करने की बात थानेदार दिनेश शेंडे ने दी.

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

 

Advertisement
Advertisementss
Advertisement
Advertisement
Advertisement