Published On : Wed, May 27th, 2020

‘ मुद्रास चैरिटेबल सोसाइटी ‘ बनी गरीबों और जरुरतमंदो का सहारा

पिछले 2 महीनो से लोगों को बांटा जा रहा है खाना और राशन

नागपूर- शहर में दो महीने से लॉकडाउन चल रहा है. इस लॉकडाउन के बीच शहर के कई एनजीओ मानवता का परिचय देते हुए गरीब,बेघर लोगों को अनाज और जरुरत का सामान बांट रहे है. ‘ मुद्रास चैरिटेबल सोसाइटी ‘ की ओर से भी पिछले दो महीने से लगातार गरीबों को खाना, राशन किट, पानी की बॉटल्स, साबुन, सैनिटाइज़र, सेनेटरी पैड्स, मास्क, ब्रश और जरुरत का सामान बांटा जा रहा है. इस एनजीओ की संस्थापक रूपम झा है. उनकी इस सराहनीय पहल में उनके कुछ सहयोगी भी उनकी मदद कर रहे है.

संस्था ने अब तक 20,163 लोगों को खाना, 960 लोगों को राशन किट,1398 लोगों को मास्क, 491 बच्चों को किट्स, 200 ड्राई स्नैक्स, बच्चों के लिए मैग्गी,1589 लोगों को कोल्ड्रिंक्स, 97 किलो फल, 20 दर्जन केले, 570 वाटर बॉटल्स, 211 साबुन, इसके साथ ही एक ख़ास काम इस संस्था ने किया है वह है, बेजुबान पक्षियों के लिए 5-5 किलों बाजरा, ज्वार और मक्का भी बांटा है .


‘ मुद्रास चैरिटेबल सोसाइटी ‘ की संस्थापक रूपम झा ने बताया की लॉकडाउन से पहले वे स्लम, शेल्टर होम में जाकर स्किल्स पर उनकी संस्था काम करती थी. लॉकडाउन में वालंटियर्स नहीं होने के कारण उन्होंने ड्राइवर और कुछ लोगों की मदद से जरूरतमंद लोगों को खाना और राशन बाटना शुरू किया . नागपूर पुलिस के ग्रुप में शामिल होकर उन्हें लोगों की जरुरत के बारे में जानकारी मिली और इसके बाद वे और उनके सहयोगी 2 महीने से जरूरतमंद गरीब लोगों की मदद कर रहे है. इस काम में उनके सहयोगी दिनेश, यश,चंदन ने उनका पूरा साथ दिया.