Published On : Thu, Feb 6th, 2020

चंद्रपुर जिले की मुख्य समस्याओ को लेकर सांसद बालू धानोरकर पहुंचे प्रधानमंत्री के पास

नागपुर– कर्नाटका ईएमटीए कोल माईन्स लिमिटेड कर्मचारियो की समस्याए चंद्रपुर जिले की अन्य समस्याओ को लेकर कांग्रेस के सांसद बालू धानोरकर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाक़ात की। इस दौरान उन्होंने कई समस्याओ को प्रधानमंत्री के सामने रखा। जिसमें कर्नाटका इएमटीए कोल माईन्स लिमिटेड के सभी कर्मचारियों को 1 एप्रिल, 2015 से वेतन नहीं मिला है. क्योंकि, सुप्रीम कोर्ट ने कंपनी को मिली सभी कोल ब्लॉक का आवंटन रद्द कर दिया था। जिसके कारण कार्यरत कर्मचारी एकमद से बेरोजगार हो गए है। उनको परिवार पालना, बच्चों की शिक्षा मुश्किल हो गई है। एक तरह से उनके परिवारवाले सडक पर आ गए है। जबकि अब केपीसीएल ने अपना केस वापर ले लिया है। इस बंद पडी कोल ब्लॉक को ‘ईएमटीएङ्क अथवा ‘डब्लूसीएलङ्क को आवंटित कर दोबारा चालु करने के साथ साथ कर्मचारियों के रुके वेतन दिलवाने की मांग बालू धानोरकर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से की है।

इसके साथ ही पूर्व प्रधानमंत्री पी.व्ही. नरसिम्हा राव के शासनकाल में भद्रावती तालुका में लगभग तीन हजार एकड जमीन पर पॉवर प्लांट लगाने के लिए यह जमीन कब्जे में ली गई थी।लेकिन आजतक खाली पडी इस जमीन पर कोई भी प्रोजेक्ट नहीं लगा। इस जमीन पर प्रोजेक्ट लगाने सें क्षेत्र का विकास होगा। साथ ही युवको के रोजगार मिलेगा, कोयला खनन प्रक्रिया के लिए किसानो से काफी मात्रा में जमीन ली गई थी। वो भी अभी तक खाली पडी हुई है। उसे ना तो किसानो को वापिस किया जा रहा है और ना ही किसानो को कानून के अनुसार मुआवजा साथ ही परिवार के सदस्य को नौकरी दी जा रही है, चंद्रपूर और पडोसी जिले में लगभग तीस हजार से ज्यादा संगठित और असंगठित क्षेत्रों में मजदूर कार्यरत है। खास बात यह की यहा पर ‘ईएसआयसीङ्क का कोई भी अच्छा हॉस्पिटल नहीं है। इसके लिए मजदुरो को नागपुर ही आना पडता है। इसके लि चंद्रपूर में ‘ईएसआयसीङ्क का ‘सुपर स्पेशालिटी हॉस्पिटलङ्क खुलवाने की कृपा करे, चंद्रपूर में नदियों का एक जाल है। इसका उपयोग सिंचाई और पीने के पाणी के लिए कर सकते है। इसलिए अधर में लटके निम्न पेनगंगा प्रोजेक्ट, वडनेर प्रोजेक्ट आदि को कार्यान्वित करणे हेतू पर्यात धनराशी दी जाए। इन नदीयों पर अभी तीन बैराज धनोरा, अमडी और आर्वी-धानूर प्रोजेक्ट प्रस्ताविक किए गये है।

केंद्र सरकार के माध्यम से इन बैराजों के लिए उपयुक्त धनराशि मुहैया कराई जाए। जिससे बैराजज जल्दी बन सके और यहा के लोगो को इसका लाभ मिल सके, चंद्रपुर के ऑर्डनन्स फॅक्ट्री में लगभग 205 अनुकम्पा धारकों ने नौकरी के लिए नियमानुसार आवेदन किया है। पर अभी तक एक को भी नौकरी नहीं मिली है। इस मामले में हस्तक्षेप कर इन अनुकम्पा धारको को नौकरी दिलाई जाए, यवतमाल से वनी हायवे नं. 7 पर चिखलगाँव रेल्वे क्रॉसिंग पर नया ओव्हर हेड ब्रिज बनाया जाए। वरोरा-वनी राज्यमार्ग पर बायपास के पास नागपुर-आदिलपुर रेल्वे लाईन पर स्थित रेल्वे क्रॉसिंग पर भी नया ओव्हर हेड बिज बनाया जाए, तालुका वरोरा में भी मालवीय मार्ग शिवाजी नगर में रेल्वे अंडर ब्रीज की स्थान पर नया ओव्हर हेड ब्रिज बनाया जाए, तालुका वनी में वनी रेल्वे स्टेशन को लगे हुए कोयले का डम्पिंग यार्ड है। जिसके कारण पूरे वनी शहर में प्रदुषण हो रहा है। इस डम्पिंग यार्ड को वनी शहर से दूर बनाया जाए। वनी में खाद के लिए रैक का परमिशन मिला है। लेकिन रॅक अभी तक नहीं बना है। जल्दी से रैक निर्माण का कार्य पूरा किया जाए।

इसके साथ ही उनकी अन्य मांगो में बल्लारशाह रेल्वे स्टेशन पर लगभग सभी रेल्वेगाडीयाँ रुकती है। इसलिए इसके सभी प्लेटफार्म पर लिफ्ट लगाई जाए। इस स्टेशन पर पिट लाईन का भूमिपूजन पूर्व सांसद द्वारा किया गया था। पर 9 माह बीत जाने के बावजूद भी कार्य आरंभ नहीं हुआ है। यह कार्य जल्दी आरंभ किया जाए। रेल्वे स्टेशन के दक्षिण छोर पर भी तिकीट खिडकी बनाई जाए। स्टेशन पर बने दोनो ओवर ब्रिज को आपस में जोडा जाए। ताकि, यात्री सीधे प्लेटफॉर्म पर पहुंए जाए।