Published On : Tue, Sep 12th, 2017

दशक भर से अधर में लटका मोमिनपुरा का अंडरब्रिज-आरयूबी चौड़ा ना होता देख यहां आरओबी की मांग

नागपुर: आनंद टाकीज आरयूबी और मेकोसाबाग मोमिनपुरा आरयूबी को बनाने का प्रस्ताव एक साथ रखा गया था. आनंद टाकीज आरयूबी तो बन गया , लेकिन पिछले 10-11 वर्ष से मोमिनपुरा का अंडरब्रिज अटका हुआ है. इस संदर्भ में पूर्व मंत्री अनीस अहमद ने केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी से मुलाकात कर कार्य शुरू करने की मांग की. मोमिनपुरा रेलवे अंडरब्रिज में छोटे-छोटे दो से ढाई मीटर चौड़े दो बोगदे हैं जिनमें एक कार निकलने पर दूसरी बाइक का निकलना मुश्किल हो जाता है. इस आरयूबी में पानी भरा रहता है जिससे स्कूली बच्चों और नागरिकों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. इस आरयूबी को भी चौड़ा बनाने की मांग उन्होंने गडकरी से की. उन्होंने बताया कि डोबीनगर, अंसारनगर, हैदरी रोड, मो. अली रोड, क्राडक रोड के सारे सीवेज लाइन को बदलने की जरूरत है जो लीकेज हो गया है और गंदा पानी यहां भरता है. उन्होंने कहा कि आरयूबी चौड़ा नहीं हो सकता तो यहां आरओबी बनाया जाना चाहिए.

ज्ञात हो कि यह मध्य नागपुर से उत्तर नागपुर को जोड़नेवाला प्रमुख मार्ग. यहां से ट्राफिक जूना भंडारा रोड जो गोलीबार चौक से रामझूला तक जाता है. अगर बड़ी गाड़ी ट्रक आदि मोमिनपुरा आना चाहे तो उन्हें घूमकर पांचपावली रोड से आना पड़ता है. काटोल रोड, कोराडी रोड, कामठी रोड से आने वालों को भी घूमकर आना पड़ता है, इसलिए 10 वर्ष पूर्व मंजूर इस आरयूबी को चौड़ा बनाने या फिर आरओबी बनाए जाने की जरूरत होने की ओर ध्यान खींचा गया. बताते चलें कि एसएसआरडीसी ने जुलाई 2006 में दो आरयूबी बनाने का निर्णय लिया था जिनमें आनंद टाकीज आरयूबी बन गया, लेकिन मेकोसाबाग मोमिनपुरा आरयूबी अभी तक कागजों में ही अटका हुआ है. आज इसकी लागत दोगनी हो गई जिसकी भरपायी आम नागरिकों के टैक्स से ही की जाएगी. अनीस ने गडकरी से मांग की कि अपने मंत्रालय से निधि देकर मनपा द्वारा यह कार्य पूरा करवाएं.

उल्लेखनीय है कि जूना भंडारा रोड संकरा होने के कारण हमेशा ट्राफिक जाम का नजारा रहता है. इस रोड में इतवारी और गांधीबाग मार्केट आने-जाने वालों की भीड़ रहती है. इस सिंगल रोड को 60 फीट चौड़ा करने और टूटे जाने वाले मकान-दूकानों को मुआवजा देने की मांग भी की गई. उन्होंने कमाल टाकीज से ऊंटखाना मेडिकल चौक तक ओवरब्रिज बनाने के साथ ही पांचपावली ब्रिज को फोर लेन बनाने की मांग भी की. मेट्रो रेल एरिया में जो भारी ट्राफिक वाले क्षेत्र इतवारी, गांधीबाग, महल आदि हैं, वहां मेट्रो स्टेशन जाने के लिए स्काय वाक वाकिंग बेल्ट वाला फुटब्रिज बनाने की मांग भी की जैसा दिल्ली, मुंबई में बनाया गया है.