Published On : Mon, Jun 18th, 2018

महा मेट्रो मेगा प्रोजेक्ट : बदल रही है,शहर की जीवनशैली

नागपूर: रोटरी वलब की ओर से एतिहासिक और उल्लेखनीय कार्य करने के लिए रोटरी व्होकेशनल अकॅसिलन्स अवार्ड से सम्मानित किया जाता है. इसी शृंखला मे महा मेट्रो के प्रबंध निदेशक डॉ.बृजेश दिक्षित को हॉटेल सेंटर पॉईंट में अवार्ड से सम्मानित किया गया. वलब की ओर से इसके पूर्व डॉ. विकास आमटे, डॉ. अभय बंग, फिल्म निर्माता राजू हिराणी, डॉ. दिनेश कासकर को सम्मानित किया जा चूका है. सत्कार के उत्तर में डॉ. बृजेश दीक्षित ने कहा की यह शहर का सौभाग्य है कि, विश्वस्तरीय मेगा प्रोजेक्ट का निर्माण नागपूर शहर में हो रहा है . महा मेट्रो के माध्यम से शहर की जीवनशैली बदलेंगी साथ ही विकास के नये-नये आयाम उपलब्ध होंगे .

रोटरी के प्रत्येक पदाधिकारी और सदस्यो से महा मेट्रो के प्रबंध निदेशक डॉ. बृजेश दीक्षित ने आव्हान किया कि, अधिक से अधिक लोगो को मेट्रो से जोडणे और सार्वजनिक परिवहन के रूप में आत्मसात करने के लिए नागरीको को जागरूक करे ताकी बिगडते पर्यावरण को संतुलित किया जा सके और सडक दुर्घटना के आकडो में कमी लायी जा सके . उन्होने कहा कि मेक इन इंडिया, मेक इन महाराष्ट्र के साथ ही मेक इन नागपूर का ठोस कार्य किया जा रहा है . देश की अन्य मेट्रो रेल कि तुलना में महा मेट्रो आधुनिक और बुजुर्ग तथा दिव्यांगो के लिए सुविधायुक्त होने का उल्लेख करते हुए डॉ. दीक्षित ने कहा की महा मेट्रो केवल कमर्शियल ही नही बल्की सोशल डेव्हलपमेंट कि दिशा में भी अग्रसर है . लोगो कि जीवनशैली में परिवर्तन लाने के साथ ही सर्वागीण विकास में मददगार साबित हो रही है .

कार्यक्रम के प्रारंभ में डॉ. बृजेश दीक्षित तथा अतिथीयो ने दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया . रोटरी के डीस्ट्रीक्ट गवर्नर डॉ. के. एस.राजन ने डॉ.दीक्षित का शाल-श्रीफल से सत्कार कर रोटरी व्होकेशनल एक्सीलेंस अवार्ड प्रदान किया . प्रास्ताविक भाषण में राजे भोसले ने रोटरी व्लब के कार्यो का संक्षिप्त विवरण दिया . श्री.शब्बीर शाकीर ने डॉ.बृजेश दीक्षित का परिचय एवं कार्यप्रणाली की जानकारी दी.

महा मेट्रो ने कि करीब रु.१०० करोड कि आय: निर्धारित समय में गुंणवत्ता पूर्ण किये जा रहे मेट्रो परियोजना के निर्माण कार्य में ५-डी बीम प्रणाली उपयोग में लायी जा रही है,इस प्रणाली के माध्यम से कार्य में करीब ८०० करोड कि बचत हुई है . उन्होने कहा कि, नागपूर मेट्रो युनिक फिव्चर है. टीओडी पॉलिसी के अंतर्गत कार्य शुरू है, मेट्रो रेल कमर्शियल आधार पर फीलहाल पटरी पर नही दौडी है, लेकीन करीब १०० करोड कि आय अन्य स्त्रोतो के माध्यम से अर्जित कि है. सोलर एनर्जी को महा मेट्रो अपना रही है, मेट्रो के निर्माण कार्यो के दौरान ही सोलर पॅनेल का प्रावधान किया गया . करीब १० लाख स्के.फुट एरिया में सोलर पॅनेल के माध्यम से बिजली अर्जित कि जायेंगी . ९.५० रु. पैसे प्रती युनिट बिजली विभाग कि किमत है, इसकी तुलना में महा मेट्रो को ३.५० रु. प्रति युनीट बिजली प्राप्त होंगी.

महा मेट्रो देश की पहली मेट्रो परियोजना है, जिसकी स्टेशन इमारत २० मंजिला बन रही है . पुरे देश में महा मेट्रो अग्रणीय होने का किताब पा चुकी है. नागपूर के साथ ही पुणे में भी तेजी से कार्य किया जा रहा है . उन्होने मेट्रो कल्चर आत्मसात करने का हीतोपदेश देते हुए कहा कि, नागपूर और आस-पास क्षेत्रो के लिए मॉडर्ण हाय-क्वालिटी रेल्वे सर्विस उपलब्ध कराने कि दिशा में प्रयास शुरू है . पहले चरण में ४० कि.मी. के निर्माण कार्य में से ६५% कार्य पूर्ण हो चुके है, द्वितीय चरण का डीपीआर ४८ कि.मी. बनाया गया है, दोनो चरण पूर्ण होने पर अनुमानित ५ लाख लोग मेट्रो से सफर करेंगे यह विश्वास उन्होने जताया .

निर्माण कार्य के दौरान हो रही दिव्कतो को सहन कर सभी वर्गो द्वारा दिये जा रहे सहयोग के प्रती कृतद्धता व्यक्त की . मेट्रो के किराये में कंट्रोल रहे इस दिशा में भी अन्य आय स्त्रोत विकसित किये जा रहे है . ५.५ कि.मी. का कार्य पुरा हो चुका है, और इस मार्ग पर जॉय राईड शुरू कि गयी है, ताकी नागरीक मेट्रो सेवा से रु-ब-रु हो सके .कार्यक्रम का समापन एव आभार प्रदर्शन श्री.अरुण मित्तल ने किया . इस समारोह में प्रमुख रूप से श्रीमती.अन्न रूपा चांडक,श्री.मंगेश जोशी, श्री.राजेंद्र सिंह खुराना, डॉ.विनय तुले, श्री.शशांक विश्वरूपे, श्री.शब्बीर शाकीर, श्री.माधवेद्र जैन, श्री. रघुवीर सिंह महा मेट्रो के महाप्रबंधक(प्रशासन) श्री. अनिल कोकाटे आदी उपस्थित थे .