Published On : Thu, Jun 7th, 2018

लोकमाता अहिल्यादेवी के विचारों को आत्मसात करे

सौंसर: अहिल्यादेवी होलकर कोई सामान्य महिला नहीं थीं बल्कि वह लोक माता थी। लोकमाता से तात्पर्य जन-जन की माता। समाज के लोग एकजुट होकर कार्य करे ,धनगर समाज के शंकरराव चाके द्वारा किए गए समाज के लिए किए कार्य अद्वितीय एवं अविस्मरणीय है। युवा शिक्षित होकर अपने साथ- साथ दिन हीन ,गरीब उपेक्षित समाज की सेवा मे योगदान दे। हम सभी को आत्मसात करना चाहिए,यह बात बेरडी में आयोजित अहिल्या देवी होलकर जयंती समारोह में ग्रामीण आदिवासी समाज विकास संस्थान के प्रमुख श्यामराव धवले ने कही। लोकमाता अहिल्यादेवी होलकर धनगर समाज बेरडी द्वारा मंगलवार को विभिन्न कार्यक्रमो का आयोजन हनुमान मंदिर बाजार चौक में किया गया ।कार्यक्रम की अध्यक्षता कुंडलिक लामसे ने की।

इस मौके पर निलकंठ गोहञे, यशवंत तवले, सुरेश आगरकर, विठ्ठल लामसे, देवराव भुजाडे, नामदेव घायवट ने की । धनगर समाज समिति सौसर के उपाध्यक्ष स्व. शंकरराव चाके कार्यक्रम में श्रध्दाजंली दी गई। यशवंत तवले ने शंकरराव चाके के द्वारा समाज हितो मे किए गए कार्य का वर्णन किया निलकंठ गाेहञेजी ने समाज संगठन के कार्यो का वर्णन किया एवं समाज के लोगो को आगे आकर समाज के लिए निस्वार्थ भावना के साथ कार्य करने का आह्वान किया।जिलास्तर पर धनगर समाज संघर्ष समिति का गठन कर शासन का समाज के हितो पर ध्यान आकर्षित करे।

कार्यक्रम मे कक्षा दसवी मे अधिकत्तम अंक लेने पर ईशिका गोविंदा भागवत सम्मान किया गया ।कुर्सी दौड एवं जो जीता वही सिकंदर प्रतियोगिता मे विजेता को पुरस्कृत किया गया।कार्यक्रम का संचालन धनगर समाज बेरडी के अध्यक्ष अशोक लाखे ने किया । कार्यक्रम मे गिरधारी लामसे मारोती टेकाडे, आशीष वडे, वु्षभ लामसे, सुनिल लामसे मुरलीधर लामसे, विवेक टेकाडे के साथ अन्य समाज बन्धु उपस्थित थे। विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर धनगर समाज समिति ने बाजार चौक माता मंदिर बेरडी में वृक्षारोपण कर पर्यावरण संरक्षण का संकल्प लिया