Published On : Fri, Sep 22nd, 2017

अजनी इंटर मॉडेल स्टेशन और खापरी में बनेगा लॉजिस्टिक हब


नागपूर: आगामी ५० वर्षो कि आवश्यकता को देखते हुए अजनी रेल्वे को इंटर मॉडेल स्टेशन, तथा खापरी को लॉजिस्टिक हब के रूप में विकसित करने संबंधि विकास परियोजना को विश्व स्तरीय दर्जे कि प्लानिंग करने का सुझाव केंद्रीय परिवहन एवं सिंचाई मंत्री नितिन गडकरी ने दिया। इसके साथ ही मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने विकास परियोजनाओ को साकार करने के लिए राज्य सरकार द्वारा हर संभव सहयोग करने का उल्लेख किया। चर्चा के दौरान गडकरी ने तुकडोजी पुतला चौक से वंजारी नगर (पाणी टंकी) तक आने वाले मार्ग को आगे बढकर नये अजनी आरओबी से कनेक्ट करने कि जानकारी दी। वही मुख्यमंत्री ने विकास परियोजनाओ का कार्यआदेश मार्च – २०१८ तक पुरा कर भूमीपूजन करने कि घोषणा की । महा मेट्रो कि ओर से हॉटेल रेडीसन ब्लू में मल्टी मॉडेल हब विषय पर उपक्रम आयोजित किया गया था इस अवसर पर वे बोल रहे थे। एन.एच.ए.आई. कि ओर से परियोजनाओ का प्रस्तुतीकरन दिया गया.

कार्यक्रम के प्रारंभ में महा मेट्रो के व्यवस्थापकीय संचालक डॉ. बृजेश दीक्षित ने अतिथी यो का पुष्पगुछ् से स्वागत किया । भारत माला के मुख्य महाप्रबंधक मनोज कुमार ने मल्टी मॉडेल हब कि विस्तृत जानकारी दी । उन्होने बताया कि, सडक परिवहन और मालपरिवहन कि दिशा में जो कदम उठाने चाहिये थे उस दिशा में प्रयास नही किये जाने से नागपुर शहर में परिवहन कि समस्याये बढ गयी है । इस उद्देश्य से इंटर मॉडेल स्टेशन और लॉजिस्टिक हब का प्लान बनाया गया है । अजनी में रेल्वे कि ४५० एकड जमीन है, जबकी आयएमएस (इंटर मॉडेल स्टेशन) के लिए ५० से ६० एकड जमीन कि जरुरत है । मेट्रो स्टेशन, रिंग रोड कि सुविधा यहां उपलब्ध होने से रेल, बस, और मेट्रो एक ही जगह पर यात्रीयो को उपलब्ध होंगी । विमानतल से भी अजनी कनेक्ट है । मल्टी लेवल पार्किंग एवं कमर्शियल कॉम्प्लेवक्स का इसमे समावेश होंगा । इसी तऱ्ह जेल कि जमीन भी १५० एकड है । इस विषय पर मुख्यमंत्री ने कहा कि जेल भी शहर सीमा से बाहर जा रहा है। इस जगह का भी उपयोग हो सकता है । खापरी में लॉजिस्टिक हब पर हुई चर्चा के दौरान गडकरी ने कहा कि, खापरी कि काफी जगह पार्क के लिए मिल सकती है, एच.पी.सी.एल भी शहर के बाहर जा रहा है ।

अजनी और खापरी स्टेशन को इंटर मॉडेल स्टेशन और लॉजिस्टिक हब बनाने के लिए १४०० करोड खर्च होने कि जानकारी दी । केंद्रीय बजट में १६०० करोड का प्रावधान होने कि जानकारी मिलते ही गडकरी ने दोनो परियोजनाओ का विश्व स्तरीय प्लान बनाने और इस कार्य में नागपुर महानगर विकास प्रदेश प्राधिकरन, नागपूर महानगर पालिका, नागपूर के संयुक्त सहयोग लेने का निर्देश दिये ।


भारत माला परियोजना के अंतर्गत नागपुर से इंदोर, सुरत, सोलापूर और रायपुर यह ४ कॉरीडोअर जोडने कि जानकारी दी गयी । आवश्यकता को देखते हुए गडकरी ने महा – मेट्रो के व्यवस्थापकीय संचालक बृजेश दीक्षित को, मेट्रो रेल के द्वितीय चरन कां प्लान बनाने का सुझाव दिया । कन्हान, बुटीबोरी, कोराडी और कापसी को मेट्रो रेल से जोडने के लिए कमर्शियल भूमी उपलब्ध कराने कि जानकारी दी । इसके साथ ही उन्होने कहा कि, नये कन्हान पूल के कार्य को देखते हुए मेट्रो रेल एवं एन.एच.ए.आई द्वारा यह भी प्लानिंग कर ले ताकी मेट्रो रेल के लिए नये सिरे से कार्य करने कि जरुरत ना पडे और समय के साथ आर्थिक बचत भी हो सके ।

इस अवसर पर पालकमंत्री चंद्रशेखर बावनकुले, सांसद विकास महात्मे, विधायक सुधाकर देशमुख, सुधाकर कोहले, अनिल सोले, प्रकाश गजभिये, जोगेंद्र कवाडे, रेड्डी, जिल्हाधिकारी सचिन कुर्वे, नागपूर महानगरपालिका आयुक्त अश्विन मुद्दगल, नासुप्र सभापती डॉ. दीपक म्हैसेकर, एन.एच.ए.आई. के परियोजना संचालक चंद्रशेखर, महा मेट्रो के परियोजना संचालक महेश कुमार, संचालक (रोलिंग स्टॉक) सुनील माथुर, संचालक (वित्त) शिवमाथन, महाप्रबंधक ( प्रशासन) अनिल कोकाटे, सुधीर देऊळगावकर, एन.एच.ए.आई. के आर.के पांडे एवं वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे ।