Published On : Fri, Apr 24th, 2020

लॉकडाउन में विधायक समीर मेघे का धरना प्रदर्शन

नागपूर– नागपूर प्रशासन की ओर से गुरुवार 23 अप्रैल को वाना डोंगरी स्थित एक होस्टल में 126 कोरोना संदिग्ध मरीजों को रखा गया है. जिसके कारण इस विधानसभा क्षेत्र के 2 से ढाई लाख और वानाडोंगरी परिसर के 50 हजार से ज्यादा लोगों की जान धोखे में डालने का काम सरकार ने किया है. यह कहना है हिंगना विधानसभा क्षेत्र के विधायक समीर मेघे का.इन संदिग्धो को यहाँ से हटाने की मांग को लेकर उन्होंने इस लॉकडाउन के बीच नागपूर जिलाधिकारी कार्यालय के बाहर धरना प्रदर्शन शुरू किया है.

इस दौरान उन्होंने बताया कि वानाडोंगरी में 50 हजार से ज्यादा लोग रहते है.सरकार ने 23 अप्रैल को यहाँ की नगरपरिषद के सरकारी होस्टल में 126 संदिग्धों को शिफ्ट किया है. इसी होस्टल के पास पानी सप्लाय का कुआ भी है. होस्टल में केवल 4 से 5 ही टॉयलेट होने की वजह से 126 संदिग्ध अगर कही पर थूकेंगे तो कई नागरिकों पर आफत आ सकती है. उन्होंने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि वानाडोंगरी के 50 हजार और एमआईडीसी, डीगडोह, निलडोह के 2 लाख से ज्यादा लोगों को खतरे में डालने का काम सरकार ने किया है.

उन्होंने कहा कि जिलाधिकारी को उन्होंने निवेदन दिया है और मांग की है कि इन्हें यहाँ से शिफ्ट किया जाए, जब तक उन्हें यहाँ से हटाया नही जाता ,तब तक वे धरना देंगे.उनका कहना है कि 2 लाख से ज्यादा नागरिको की जिंदगी पर बात आयी है तो वे लॉकडाउन भी तोड़ेंगे.