Published On : Wed, Nov 20th, 2019

इंदिरा गांधी का समर्पण भुलाया नहीं जा सकता— विकास ठाकरे

Advertisement

इतवारी शहीद चोक से निकलीं सदभावना रैली.

जगह-जगह इतवारी में हुआ स्वागत

Advertisement
Advertisement

नागपुर: प्रियदर्शनी इंदिरा गांधी के जन्मदिवस पर निकाली जाने वाली राष्ट्रीय युवा फ़्रण्ट कीं ओर से इतवारी शहीद चोक से सदभावना पदयात्रा का आयोजन हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी हर्षोंहल्लास से आयोजीत की गई. संस्था के प्रमुख श्री पिंटू बाँगड़ी ने प्रस्तावना रखते रखते हुए बताया की 33 वर्षों से अविरत इंदिरा गाँधी की आकर्षक झाँकियों के साथ पदयात्रा इतवारी से निकलकर विभिन्न इलाक़ों में जनता के सहयोग से निकाली जाती है.

कार्यक्रम में प्रमुखता से विधायक विकास ठाकरे, प्रदेश सचिव अतुल कोटेचा, अभिजीत वंजारी, उमाकांत अग्निहोत्री,कमलेश समर्थ, गिरीश पांडव, संजय महाकालकर, डॉ गजराज हटेवार, महेश श्रीवास, हसमुख सागलानी, रवि गाडगे पाटिल, उमेश शाहू, जयंत लुटे,रिंकू जैन, अंकुश बागड़ी, तथा जिला कांग्रेस कमेटी के पदाधिकारी, ब्लॉक अध्यक्ष, कार्यसमिती सदस्य, नगरसेवक, नगरसेविका, राष्ट्रीय युवा फ्रंट के कार्यकर्ता बड़ी संख्या में प्रमुखता से उपस्थित थे।कार्यक्रम का संचालन महामंत्री रिंकु जैन व आभार प्रदर्शन अंकुश बागड़ी ने माना.

अपने उद्भबोधन में विधायक श्री विकास ठाकरे ने कहाँ की श्रीमती इंदिरा गांधी के भारत देश में अनेक ऐतिहासिक कार्य किए जिससे आनेवाली पीढ़ीओ ने उनसे प्रेरणा लेना चाहिए. श्री ठाकरे ने आगे कहाँ कीं आज सभी कांग्रेस जनो ने संकल्प लेना चाहिए की पार्टी को मज़बूत कर सामान्य जनता के दुःखों को दूर करे. तभी श्रीमती इंदिरा गांधी को सच्ची श्रधांजलि अर्पित होंगी.महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सचिव श्री अतुल कोटेचा ने अपनी बात रखते हुए कहाँ की इंदिरा गांधी ने ग़रीबों के साथ देशवासियों की जों सेवा की उससे देश ही नहीं विदेशों में भी अपनी अलग पैठ बनाई.

भव्य रैली हेतु श्री कोटेचा ने पिंटू बाँगड़ी का अभिनंदन किया. सर्व श्री अभिजीत वंजारी,उमाकांत अग्निहोत्री, गिरीश पांडव, महेश बागड़ी, सहित सभी नेताओ ने अपने सम्बोधन में इंदिरा गांधी के जीवन पर प्रकाश डाला. बाबुलगाँव बैंड, मंगलदीप बैंड के सभी कलाकारों ने सभी मन मोह लिया. सराफ़ा बाज़ार, इतवारी मित्र मंडल व जगनाथ रोड व्यापारी संघ ने रैली का स्वागत किया.

कार्यक्रम को सफल बनाने सर्व श्री सुरेश अग्रेकर,युवराज श्रीरंग, मोंटी गंडेचा, हर्षित भंसाली,पूरुशोत्तम शर्मा, मुन्ना लखेटे,गोपाल पट्टम, इरशाद शेख़, अशोक जर्मन, मोतीराम मोहाड़िकर, गुल्लू ढ़कहाँ, दिनेश पारेख़, प्रमोद मोहाड़ीकर, प्रभाकर खापरे, दिलीप गांधी,राजेंद्र नंदनकर, श्रीकांत ढोलकें, रवी परातें, नागेश आसानी, मुन्ना शर्मा, अशोक निखाड़े, बाबा ठाकुर, अनिल पोनिपगार,रवी हिरनवार, सहित बड़ी संख्या में प्रयासरत थे.

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement