Published On : Tue, Jan 17th, 2017

विधान परिषद चुनाव के एक प्रत्याशी ने चिल्लर में जमा की जमानत राशि


नागपुर:
शिक्षक मतदाता संघ की नागपुर विधान परिषद सीट से नामांकन भरने वाले उम्मीदवार विलास शंकरराव बत्तमवार ने जमानत राशि के तौर पर एक, दो, पांच और दस के सिक्के जमा कराकर चुनाव अधिकारियों के पसीने छुड़ा दिए। विलास बत्तमवार ने एक, दो, पांच और दस के सिक्के के जरिए जमानत राशि के दस हजार रुपए में से 8825 रुपए और शेष राशि सौ-सौ के नोट में जमा कराए। उनकी जमानत राशि के सिक्कों की खनक आज दिन भर चुनाव अधिकारियों और मीडियाकर्मियों के मुंह से सुनायी देती रही।

अपनी जमानत राशि के चलते बरबस मीडिया का ध्यान बटोरने में कामयाब विलास बत्तमवार ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि वह बिना अनुदानित शालाओं में काम कर रहे शिक्षकों की समस्या को लेकर विधान परिषद का चुनाव लड़ रहे हैं और जीतने पर इन समस्याओं के निराकरण के लिए काम करेंगे।

गढ़चिरोली के निवासी विलास बत्तमवार के जमानत राशि जमा करने के तरीके से मशहूर मराठी फिल्म ‘गल्लीत गोंधळ-दिल्लीत मुजरा’ का नायक याद आ गया। उसने भी चुनाव के लिए उम्मीदवारी दाखिल करते समय चुनाव अधिकारियों के समक्ष चिल्लरों से भरी पोटलियां रख दी थी, जिसे गिनने में चुनाव अधिकारियों के पसीने छूट गए थे! उस नायक की भूमिका प्रख्यात कलाकार मकरंद अनासपुरे ने निभायी थी।