Published On : Sun, Sep 26th, 2021

अवैध धंदो में हो रही वृद्धि, रेती का ट्रक पकड़ कर छोड़ा

– हिंगना के साप्ताहिक बजार में मोबाइल चोरों का आतंक,एक दिन में 10 से अधीक मोबाइल चोरी,हिंगना पुलिस स्टेशन में गुमशुदा की शिकायत दर्ज,निष्क्रिय नगर आराह है जांच पथक

नागपुर/ हिंगना: पिछले कुछ महीनों से हिंगना पुलिस स्टेशन के सामने लगने वाले साप्ताहिक बाजार में मोबाइल चोरों ने अपना आतंक मचा रखा है। हर सप्ताह बाजार के दीन 10 के आसपास मोबाइल की चोरिया हो रही है। लेकीन हिंगना पुलिस नागरीको द्वारा गुमशुदा की शिकायत लेकर लोगो को मोबाइल मिलने का आश्वासन देकर लौटा दीया जाता है। हिंगना का तहसील स्तरीय साप्ताहिक बाजार सोमवार को रायपुर में पुलिस स्टेशन के समीप ही लगता है। लेकीन चोरों को पुलिस का किसी तरह का कोई खौफ नहीं है। साथ ही क्षेत्र में अवैध धंधों में वृद्धि होने की बात जोरों पर है। क्युकी हिंगना पुलिस स्टेशन में कार्यरत डीबी पथक के अधिकारी और कर्मचारी अवैध व्यवसाय करने वालो से वसूली में लगे रहते हैं। जिसके कारण उनका जानता की समस्या की ओर ध्यान नहीं रहता। 13 सितंबर सोमवार को हिंगना पुलिस स्टेशन में मोबाइल चोरी की क़रीब 8 लोगो ने शिकायत दी थी। उन्हसे गुमशुदा की शिकायत लेकर वापस लौटा दिया गया। कहा जाता है कि हिंगना पुलिस स्टेशन में ऐसे कर्माचरी है जो वरीष्ट अधिकारियों को भी अपने कहने के मुताबिक काम करने पर मजबूर करते हैं। उन पुलिस कर्मचारियो को सत्ताधारी और विपक्ष दोनों पक्षों के नेताओ का आशीर्वाद प्राप्त है। इसकी धौस जमाकर अवैध व्यवसाय करने वालो से मासिक हफ्ता वसूली करने का काम भी चलाए जाने की जानकारी सूत्रों से मिली है। इस ओर आला अधिकारियों द्वारा ध्यान देने की जरूरत है।

डीसीपी पथक करता है करवाईं
हिंगना, एमआईडीसी आदि पुलिस स्टेशन अंतर्गत चल रहे अवैध व्यवसाय पर निरंतर डीसीपी पथक द्वारा करवाई की जाती है। 4 से 5 दीन पुर्व गुमगाव में अवैध शराब की क़रीब 3 पेटी के साथ अवैध व्यवसाय करने वाले को डीसीपी पथक ने पकड़ा गया था। लेकीन हिंगना पुलिस स्टेशन के पुलिस अधिकारी, डीबी पथक और कर्माचरी द्वारा किसी तरह की ठोस कार्रवाई नहीं की जाती। जिससे उनके कार्य प्रणाली पर सवालिया निशान उठाए जा रहे है।

रेती का ट्रक पकड़ कर छोड़ा
हिंगना पुलिस स्टेशन के अधिकारियों के करीबी द्वारा अवैध व्यवसाय और रेत माफियाओं से मासिक हफ्ता वसूली किए जाने की वजह से किसी तरह की कोई करवाई नही किए जाने की जानकारी सूत्रों से मिली है। जिसके चलते अवैध रेत से भरा हुआ ट्रक एक अधिकारी द्वारा पकड़े जाने के बाद भी थाने से बगैर करवाईं कर वापस छोड़ दिया गया। बता दें कि 26 अगस्त को दोपहर 4 बजे के क़रीब थाने के एक अधिकारी ने अवैध रेत से भरा ट्रक पकड़ा था। जिसे करवाईं के लिए थाने में भी लाया गया। लिकिन अधिकर
और अवैध रेत माफियाओं के करीबी एक पुलिस कर्मचरी ने लाखो रुपए का लेन देन कर मामला रफा दफा कर डाला। रात को 12 बजे के क़रीब अवैध रेत से भरा ट्रक छोड़ दिया गया। जिसकी हकीकत रास्ते पर और थाने में लगे कैमेरे में कैद है। कहा जाता है कि एक तरफ़ डीसीपी नरूल हसन द्वारा रेत माफियाओं पर बड़ी करवाईं की जाती है। और दूसरी तरफ थाने के अधिकारी और कर्मचारी रेत माफियाओं पर महरबान है।

इस संदर्भ में हिंगणा पुलिस निरीक्षक बलिराम परदेशी का कहना है कि बंदोबस्त लगता हूं और डीबी पथक बदलता हु,मैं अभी नया हू। इसलिए मुझे ज्यादा जानकारी नहीं है। फिर भी सोमवार के दीन चोरों को पकड़ने के लिए बंदोबस्त लगता हूं। और क्षेत्र में चल रहे अवेध धंधे पर करवाईं करने को कहा है। लेकीन करवाईं नहीं होने के कारण डीबी पथक को बदलकर नए अच्छे कर्मचारियो को काम पर लगता हूं।