Published On : Sat, Jul 30th, 2022

लगातार बरसात ने नासुप्र की आँखे खोली

Advertisement

– दिखाई उनके गैरजिम्मेदाराना करतूतें

नागपुर – शहर में एक महीने से हो रही भारी बारिश से कई बस्तियों में पानी भर गया. इसमें नागपुर सुधार प्रन्यास के अधिकार क्षेत्र में बड़ी संख्या में बस्तियां भी शामिल थीं। इसलिए, प्रन्यास ने अब से बस्तियों में सड़क कार्य करते समय जल निकासी लाइनों का निर्माण अनिवार्य कर दिया है। इसके लिए करोड़ों रुपये खर्च किए जाएंगे। हालांकि, सड़कों का अब तक क्या हुआ, यह सवाल का कोई जवाब प्रन्यास के कर्ताधर्ता के पास नहीं हैं.

Advertisement

मानसून के दौरान शहर में जलभराव वाली बस्तियों को देखते हुए केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने अपने आवास पर बैठक कर मनपा-नासुप्र को शहर में ड्रेनेज लाइन का नया नेटवर्क बनाने के लिए नई योजना तैयार करने का निर्देश दिया. केंद्रीय मंत्री गडकरी के निर्देश को लागू करने के लिए नागपुर सुधार प्रन्यास ने कदम उठाए हैं.

नासुप्र विश्वस्त मंडल की बैठक में, नासुप्र के अध्यक्ष मनोज कुमार सूर्यवंशी ने निर्णय लिया कि सभी सड़क निर्माण कार्य नासुप्र निधि से ड्रेनेज लाइन के साथ किए जाएंगे।

नागपुर सुधार प्रन्यास ने भी सड़क कार्यों के लिए 7 करोड़ 21 लाख रुपये की राशि स्वीकृत की है. वीएनआईटी इन सड़कों के काम का निरीक्षण करेगा। शहर की कई बस्तियों में सीमेंट की सड़कों का निर्माण किया गया। लेकिन ड्रेनेज लाइन नहीं बनने से इस साल कई बस्तियों के घरों में पानी घुस गया है. इसमें मनपा-नासुप्र क्षेत्रों की बस्तियां शामिल हैं।

कई इलाकों में सड़कें दो फुट ऊंची हो गई हैं। इसलिए सड़कों और घरों का स्तर समान नहीं है। अब ऐसा नहीं है कि सड़क पर गिरने वाला पानी आसानी से मैनहोल या सड़कों से बह जाए। परिणामस्वरूप, सारा पानी लोगों के घरों, बस्तियों और झुग्गियों में घुस गया, जिससे नागरिकों को परेशानी हुई। इस ज्वलंत समस्या ने बारिश के मौसम में नासुप्र की आंखें खोल दी.

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

 

Advertisement
Advertisementss
Advertisement
Advertisement
Advertisement