Published On : Tue, Feb 18th, 2020

आर्थिक स्थिति सुधरी तो रोके कार्यों को देंगे कार्यादेश

– भाजपा नगरसेवकों का शिष्टमंडल को आयुक्त मुंढे का दो टूक जवाब

Advertisement

नागपुर – नए मनपायुक्त तुकाराम मुंढे ने जिम्मेदारी संभालते ही कार्यादेश न जारी हुए व कार्यादेश देने के बाद काम शुरू न होने वाले अमूमन सभी विकासकार्यो पर रोक लगा दी। इससे आयुक्त और सत्तापक्ष के मध्य संघर्ष शुरू हो गया। आज शाम आयुक्त से भाजपा नगरसेवकों का शिष्टमंडल मिला तो आयुक्त ने शिष्टमंडल को दो टूक जवाब दिया कि जबतक मनपा की आर्थिक स्थिति सुधार नहीं जाती,तबतक रोके कार्य सह नए कार्य शुरू नहीं किये जायेंगे,इस दरम्यान महत्वपूर्ण कार्य सतत जारी रहेंगे।

Advertisement

Advertisement

आज शाम भाजपा नगरसेवकों का शिष्टमंडल संदीप जाधव के नेतृत्व में आयुक्त मुंढे से मिलने उनके कक्ष के निकट पहुँचे तो देखें कि भारी पुलिस बंदोबस्त किया गया था। आयुक्त के कक्ष के बाजू बैठक कक्ष में प्रवेश के लिए पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की सुरक्षा दस्ता नगरसेवकों की जांच करने की कोशिश की तो नगरसेवकों ने हंगामा मचा दिया। मौके की नजाकत को देखते हुए सभी को बिना जांच के प्रवेश दिया गया।

आयुक्त मुंढे के कक्ष में प्रवेश करने के बाद सत्तापक्ष नेता संदीप जाधव,पूर्व महापौर प्रवीण दटके,पूर्व स्थाई समिति सभापति दयाशंकर तिवारी,विक्की कुकरेजा,नासुप्र के विश्वस्त छोटू भोयर,वरिष्ठ नगरसेविका नन्दा जिचकर आदि ने नगरसेवकों की व्यथा बताई और उससे होने वाले परिणाम की जानकारी दी। यह भी कहा कि आयुक्त के निर्देशों से नगरसेवकों और प्रशासन खासकर आयुक्त के मध्य दूरियां बढ़ रही,असंतोष पनप रहा।इसलिए रोजाना नगरसेवकों से मुलाकात का एक समय तय कर समन्वय कायम किया जाए।

प्रगति पाटिल ने कहा कि बैठक में महिला नगरसेविकाओ को बैठने की व्यवस्था न करना निंदनीय हैं। अंत में दटके ने कहा कि पक्ष को दिया गया चर्चा का समय समाप्त हो रहा। नगरसेवकों के पास आमसभा रूपी हथियार अब भी शेष हैं। इसके उपरांत आयुक्त ने कहा कि उन्होंने पहले ही विशेष सभा में अपने एजेंडे से वाकिफ करवा चुके हैं, वह यह कि आर्थिक स्थिति की समीक्षा का दौर जारी हैं, जब तक स्थिति सुधर नहीं जाती कार्यादेश न जारी हुए व कार्यादेश देने के बाद काम शुरू न होने वाले अमूमन सभी विकासकार्यो पर रोक लगा दी गई हैं। इसके साथ ही नए कार्यों को शुरू नहीं किया जायेगा। आर्थिक समीक्षा का दौर 29 फरवरी तक जारी रहेंगा फिर उत्पन्न स्थिति के मद्देनजर जरूरतानुसार निर्देश दिए जाएंगे। इस दौरान अतिमहत्वपूर्ण कार्य सतत जारी रहेंगा।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement