Published On : Tue, Dec 18th, 2018

क्या होटल रेडिसन ब्लू और एफडीए ने सांठगांठ कर सांभर में मिली इल्लियों का मामला दबा दिया ?

जाँच के दौरान उन्होंने सांभर का सैंपल लिया ही नहीं था
सैंपल के लिए पनीर,तुअर दाल और मिक्स वेज की सब्जी का सैंपल लिया था

नागपुर – होटल रेडिसन ब्लू में सांभर में मिली इल्लियों के मामले में नया पेंच आ गया है। पहले खाने की जाँच करने वाले विभाग एफडीए ने 14 और 15 दिसंबर को फर्मास्यूटिकल कंपनी IPCA के सेमिनार के दौरान नाश्ते में दिए गए सांभर में इल्लियाँ पाए जाने की पुष्टि की थी। अब उसी विभाग ने जाँच के लिए सांभर का सैंपल ही नहीं लेने की जानकारी दी है। मामले के तूल पकड़े जाने के बाद नागपुर टुडे ने शनिवार 15 दिसंबर को एफडीए कमिश्नर मिलिंद देशपांडे के बयान के साथ खबर प्रकाशित की थी जिसमे उन्होंने बताया था कि जो सैंपल होटल से बरामद किया गया था उसमे खाद्य पदार्थ को दूषित करने वाले पदार्थ पाये जाने की जानकारी दी थी। इसी खबर पर अपडेट लेने के लिए नागपुर टुडे ने मंगलवार को फिर देशपांडे से बात की जिसमे उन्होंने बताया की जाँच के दौरान उन्होंने सांभर का सैंपल लिया ही नहीं था। जो सैंपल लिए गए वह शनिवार की रात को परोसे गए भोजन के थे। सैंपल के लिए पनीर,तुअर दाल और मिक्स वेज की सब्जी का सैंपल लिया था। जिसे जाँच के लिए मुंबई की लैब में भेजा गया है। विभाग ने होटल पर लगे आरोपों पर सफ़ाई के लिए नोटिस जारी किया है जिसका जवाब देने के लिए 15 दिन का समय दिया गया है।

नागपुर टुडे ने देशपांडे से सवाल किया गया कि जब शिकायत सांभर में इल्लियाँ मिलने की थी। जिसकी फ़ोटो और वीडिओ भी सार्वजनिक है तो उसे क्यूँ बरामद नहीं किया गया। इस पर देशपांडे ने ज़वाब दिया कि जब जाँच के लिए उनके विभाग का दल होटल पहुँचा तब तक सांभर को होटल से ग़ायब कर दिया गया था। उन्होंने बताया की सेमिनार के आयोजक और होटल के बीच हुए आपसी सामंजस्य की वजह से ऐसा किया गया था। अब जिन खाद्य पदार्थो के सैंपल बरामद किये गये है उसमे अगर कोई त्रुटियाँ पायी जाती है तो होटल पर कार्रवाई की जायेगी।


लेकिन बड़ा सवाल यह है कि जब शिकायत सांभर को लेकर थी तब पनीर,तुअर दाल और मिक्स वेज की सब्जी का सैंपल क्यूँ लिया गया और क्या सैंपल लिए जाने के बाद उसमे कुछ पाया जायेगा। यहाँ ध्यान देने वाली बात यह भी है कि शिकायत सुबह से नाश्ते को लेकर थी। जिसकी सूचना समय पर एफडीए को दे दी गई थी। बावजूद इसके एफडीए का जाँच दल रात को जाँच के लिए पहुँचता है और सैंपल रात में परोसे गए खाने का लेता है। ऐसे में क्या विवाद के बाद होटल सतर्क नहीं हुआ होगा ?क्या विवाद के बाद भी नामी होटल अपनी पुरानी गलती को दोहरायें गए। क्या कार्रवाई में देरी कर एफडीए ने होटल को गलती सुधारने का मौका दिया ?

गौरतलबहो कि ख़राब खाने की शिकायत ऐसे नामी होटल की है जो देश भर में प्रसिद्ध है। नागपुर शहर के भीतर उसके समकक्ष कोई दूसरा आलीशान होटल नहीं। जहाँ नामी गिरामी लोग ठहराते हो। इन दिनों तो महानायक अमिताभ बच्चन फिल्म झुंड की शूटिंग से सिलसिले में नागपुर में है और इसी होटल में ठहरे हुए है। लेकिन सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक अमिताभ होटल में भोजन नहीं करते उनके साथ उनका ख़ुद का कुक है जो उनके लिए खाना तैयार करता है।

होटल रेडिसन ब्लू में ख़राब खाने की शिकायत के बाद कई सवाल खड़े हो रहे है। जो संदेह की स्थिति पैदा करते है।

शुभम नागदेवे