Published On : Tue, Jul 25th, 2017

विदर्भ में बढ़ रहे सिर और गले के कैंसर की समस्याएं – डॉ. बी.के. शर्मा

cancer hospital
नागपुर: 27 जुलाई को विश्व हेड और नेक कैंसर दिवस के रूप में मान्यता दी गई है. इस दिन विशेष पर नागपुर स्थित राष्ट्रसंत तुकडोजी रिजनल कैंसर अस्पताल में मनाया जाएगा. पूरे विश्व में 17 मिलियन से ज्यादा लोग सभी प्रकार के कैंसर से पीड़ित हैं. समाज के जीवनशैली में बदलाव के कारण सिर और गले के कैंसर की समस्याओं में इजाफा हुआ है. 2015 में सिर और गले के कैंसर ने वैश्विक स्तर पर 5.5 मिलीयन से अधिक लोगों को प्रभावित किया और 3.79 लाख से अधिक लोगों की मौत हुई है. डब्ल्यूएचओ के अनुसार तम्बाकू और तम्बाकू जन्य उत्पादों के अत्यधिक उपयोग के कारण भारत के विदर्भ क्षेत्र में सिर और गले के कैंसर की घटनाएं काफी ज्यादा प्रमाण में हैं. नागपुर में सिर और गले के कैंसर की घटनाएं इतनी ज्यादा है कि अब नागपुर को सिर और गले के कैंसर के विश्व केंद्र के रूप में पहचाना जाने लगा है.

2012-2016 के आरएसटी आरसीएच के आकड़े बताते हैं कि हेड एंड नेक कैंसर 18.33 प्रतिशत से बढ़कर 27.27 प्रतिशत पर जा पहुची. पुरुषों और महिलाओं में क्रमश: 18 और 17 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई है. आंकड़ों से यह भी पता चलता है कि पुरुष और महिला दोनों में 50 -54 के आयु समूह में तम्बाकू से सम्बंधित कैंसर आम बात हो गई है. हैरानी की बात यह है कि 25 -35 साल के आयु वर्ग के युवा लोगों में भी तम्बाकू से सम्बंधित हेड एंड नेक कैंसर के साथ रिपोर्टिंग हो रही है. नागपुर शहर में क्षेत्रीय कैंसर रजिस्ट्री के आकड़ों के मुताबिक़ पिछले साल पंजिकृत 33 प्रतिशत लोग गले के कैंसर से पीड़ित थे.

इन आकड़ों को ध्यान में रखते हुए 27 जुलाई को राष्ट्रसंत तुकडोजी रीजनल कैंसर अस्पताल द्वारा जागरूगता कार्यक्रम किया जा रहा है. नशे की लत, रोकथाम और शुरुआती लक्षण पर प्रसिद्ध डॉक्टरों की ओर से मार्गदर्शन किया जाएगा. राष्ट्रसंत तुकडोजी रीजनल कैंसर अस्पताल ने अपनी सेवा के 43 वर्ष पूरे कर लिए हैं. 1984 में डॉ.बी.के शर्मा अस्पताल के संयुक्त निदेशक पद पर आसीन हुए थे. डॉ. शर्मा के मार्गदर्शन में ‘हेड एन्ड नेक ओंको सर्जरी विभाग की शुरुआत हुई थी. बी.के. शर्मा पहले व्यक्ति हैं जिन्होंने आरएसटी आरसीएच में पहले हेड एन्ड नेक ओंको सर्जरी मरीज का ऑपरेशन किया था.

राष्ट्रसंत तुकडोजी रीजनल कैंसर अस्पताल में महात्मा ज्योतिबा फुले जन स्वास्थ्य योजना के तहत 2016 में 5000 मरीजों का मुफ्त उपचार किया गया है तो वहीं 2012 से लेकर अब तक 12 हजार 890 मरीजों का मुफ्त उपचार किया गया है. यह जानकारी सोमवार को राष्ट्रसंत तुकडोजी महराज कैंसर अस्पताल में आयोजित पत्र परिषद के दौरान डॉ. बी. के.शर्मा ने दी. उन्होंने बताया कि इंडियन मेडिकल एसोसिएशन द्वारा यह कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा. इस कार्यक्रम में डॉ. मदन कापरे, डॉ.सतशील सापरे, डॉ. संजीव गोल्हर, डॉ. वकार हसन, डॉ. अविनाश देशमुख, डॉ.एम.एम. माहोरे, डॉ. मुकुंद भिड़े, डॉ.संदीप अग्रवाल और डॉ आशीष चिखले उपस्थित रहेंगे.