Published On : Mon, Mar 22nd, 2021

घर में परिवार के साथ सादगी से मनाए सुखी होली- मनीष मेहता

नागपुर : अमरस्वरूप फाउंडेशन के अध्यक्ष मनीष मेहता ने कहा हैं इस देश कोरोना संक्रमण स्थिति बढ़ रही हैं और चिंताजनक स्थिति को देखते हुए नागपुर और देश के नागरिक घर में अपने परिवार के साथ सादगी से सूखी होली मनाए. देश मे पीने के पानी की भी समस्या हैं, कुछ कुछ जगह नागरिकों को पीने के लिये पानी नसीब नहीं होता, 5-6 किलोमीटर दूरी से पानी लाना पड़ता है. होली में हजारों गैलन पानी व्यर्थ होता हैं. हम सभी ने आचार्यश्री पुलकसागरजी गुरुदेव का संदेश पानी बचाओ, पर्यावरण बचाओ, सुखी और तिलक होली मनाओ का संदेश जन जन तक पहूंचाने की आवश्यकता हैं और मुझे ज्ञात हैं कि आचार्यश्री पुलकसागरजी गुरुदेव ने दस वर्ष पूर्व पुलक मंच परिवार के माध्यम से संदेश प्रसारित किया था. पुलक मंच परिवार प्रतिवर्ष होली में संदेश देश में प्रसारित करता हैं और प्रतिसाद भी देखने मिल रहा हैं. नागपुर में भी 5000 हर्बल गुलाल की डिब्बी का वितरण होता हैं.

अखिल भारतीय पुलक जन चेतना मंच और राष्ट्रीय जैन महिला जागृति मंच महावीर वार्ड नागपुर द्वारा होली के पूर्व 5000 हर्बल गुलाल की डिब्बियों का वितरण घर घर में जाकर शुरू हुआ हैं. शासन के नियम के अनुसार पुलक मंच परिवार कार्यालय में अमरस्वरूप फाउंडेशन के अध्यक्ष मनीष मेहता, साई आस्था फाउंडेशन के अध्यक्ष आशीष नागपुरे, पुलक मंच परिवार के राष्ट्रीय कार्याध्यक्ष मनोज बंड, बेटियां शक्ति फाउंडेशन के अध्यक्ष श्रीधरराव आड़े, पुलक मंच परिवार के महामंत्री प्रकाश उदापुरकर की प्रमुख उपस्थिती में जनजागरण का शुभारंभ हुआ.

भारत गौरव राष्ट्रसंत पुलकसागरजी गुरुदेव के प्रेरणा और आशीर्वाद से देशभर की सभी 500 शाखाओं के द्वारा सुखी होली, पर्यावरण की रक्षा, स्वास्थ स्वस्थ रखो, पानी बचाओ के साथ तिलक होली का जनजागरण किया जा रहा हैं. आचार्यश्री पुलकसागरजी गुरुदेव ने देशभर जारी किये संदेश में कहा हैं त्योहारों को धूमधाम से मनाने के साथ ही पर्व की सार्थकता और उसकी पावनता को सुरक्षित रखने में निहित झलकती हैं. गुरुदेव कहते हैं होली के उज्ज्वल माथे पर सूखे गुलाल का तिलक लगाकर इस वर्ष मौलिक अस्मिता को सुरक्षित रखना हैं. इसकी महिमा वृद्धिंगत करना हैं. यदि हम हानिकारक रंगों को किसी के चेहरे पर मलते हैं तो गुरुदेव कहते हैं ऐसा लगता हैं हम सब भाईचारे, मित्रता और प्यार के पावन चेहरे पर कालिख पोत रहे हैं. कीचड़, डामर, तारकोल, केमिकल्स मिले रंग, चीनी रंगों की होली खतरनाक होती हैं. हजारों गैलन पानी व्यर्थ में बह जाता हैं. किसानों को खेत के लिये पानी नहीं मिलता. हर्बल गुलाल के डिब्बियों के साथ पत्रक का वितरण किया.

समारोह का संचालन और प्रस्तावना पुलक मंच परिवार के राष्ट्रीय कार्याध्यक्ष मनोज बंड और आभार शाखा महामंत्री प्रकाश उदापुरकर ने माना. समारोह में शरद मचाले, रमेश उदेपुरकर, नरेश मचाले, हेमंत सावलकर उपस्थित थे.