Published On : Fri, Mar 23rd, 2018

ग्रीन विजिल ने शहर के नागरिकों को दिया जल बचाने का सन्देश


नागपुर: 22 मार्च सारे विश्व में जल दिवस के रूप से मनाया जाता है. 1992 में ब्राजील में आयोजित यूनाइटेड नेशन कांफ्रेंस एनवायरनमेंट एंड डेवलपमेंट के दौरान जल संरक्षण के महत्व पर विस्तारित चर्चा की गई एवं 1993 से हर साल 22 मार्च विश्व जल दिवस के रूप में सभी मना रहे हैं. नागपुर की जानी मानी पर्यावरण संस्था ग्रीन विजिल ने इस अवसर पर फुटाला तालाब परिसर पर जनजागरण के माध्यम से जल दिवस मनाया.

इस अभियान के अंतर्गत ग्रीन विजिल संस्था के सदस्यों ने नागपुर वासियों से जल के महत्व व संरक्षण की जरूरत के बारे में चर्चा की. अभियान के दौरान विभिन्न पोस्टर व बैनर के जरिए जल संरक्षण के सन्देश दिए गए. संस्था के सदस्यों ने नागरिकों को नागपुर पर मंडराने वाले जलसंकट के बारे में अवगत कराया एवं ज्यादा से ज्यादा पानी बचाने का अनुरोध किया. ग्रीन विजिल पर्यावरण संस्था के इस अभियान को मान्यता देते हुए यूनाइटेड नेशन ने अपनी ऑफिसियल वेबसाइट पर इस अभियान को नामांकित किया है.

इस दौरान ग्रीन विजिल टीम की लीडर सुरभि जैस्वाल ने बताया कि इस साल के जल दिवस का थीम ” नेचर फॉर वाटर ” है. जिसका उद्देश्य है किस प्रकृति व पर्यावरण के जरिए जल संकट से निजात पाया जा सकता है. जैसे ज्यादा से ज्यादा जंगलों में बढ़ोत्तरी, वेटलैंड का संरक्षण, जलचक्र में संतुलन, नदी व तालाबों का संरक्षण . इस बारे में मौजूद नागरिकों को भी मार्गदर्शन किया गया.

इस अभियान को सफल बनाने के लिए ग्रीन विजिल टीम के मेहुल कोसुरकर, कल्याणी वैद्य, बिष्णु देव यादव, शीतल चौधरी, विकास यादव, दिगम्बर नागपुरे, अमोल भालमे, दादाराव मोहोड़, यश केडिया, करण नाशीने, अर्जुन अग्रवाल, खुश अग्रवाल, चिराग पोद्दार, नीरज अग्रवाल ने अथक परिश्रम किया.