Published On : Sat, Jul 13th, 2019

सरकारी सुविधाओं का स्टार्टअप में लाभ लेना चाहिए: दिनेश राय

यह बात सभी जानते हैं की युवा को नौकरी मांगने वाला ना बना कर अब उसे नौकरी देने वाला बनना चाहिए. युवा को स्टार्टअप के रूप में अपना खुद का उद्योग या व्यवसाय शुरू करना चाहिए और उसमें दूसरों को नौकरी देने का प्रयास करना चाहिए। सरकार के पास स्टार्टअप के लिए बहुत सारी योजनाएं हैं और बहुत सारी सहुलियत उन्हें दी जाती है। सीड कैपिटल, इनक्यूबेशन सेंटर आदि अलग अलग तरीके से सुविधाएं दी जाती है।

ऐसा मिनिस्ट्री आफ एमएसएमई भारत सरकार के पूर्व सचिव दिनेश राय ने कहा। दिनेश राय अलायंस फॉर इंडियन एमएसएमई व कंफीग्ड्रेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स द्वारा आयोजित कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि बैंकिंग के माध्यम से वह एनएसआइसी और सीडबी के माध्यम से बहुत सा पैसा उपलब्ध हो सकता है। यह जरूरी है की स्टार्टअप आगे आए और सरकारी विभागों के साथ मिलकर विभिन्न बैंक व अन्य वित्तीय सहायता करने वालों के साथ मिलकर लाभ उठाए। ऐसा श्री दिनेश राय ने कहा।

कंफीड़्रेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी सी भरतिया ने कहा की भविष्य में अर्थव्यवस्था को गति प्रदान स्टार्टअप और एमएसएमई कर सकते हैं। समय आ गया है कि स्टार्टअप आगे आए। अपनी इन्नोवेटिव आईडियाज से अपना उद्यम खड़ा करें. उन्होंने कहा कि वे वेंचर कैटेलिस्ट के माध्यम से एंजल इन्वेस्टर के सामने स्टार्टअप के उद्यम को पेश करवा सकते हैं और उन्हें धन एकत्रित करने में सहयोग कर सकते हैं।

भारत सरकार के एमएसएमई कार्यालय के डायरेक्टर पीएम पार्लेवार ने सरकार द्वारा स्टार्टअप के लिए जो अलग-अलग योजनाएं बनाई है उसकी विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने कहा कि हमारे आदरणीय नितिन गडकरी जी अब एमएसएमई के भी मिनिस्टर हैं। गडकरी जी एमएसएमई के माध्यम से विकास चाहते हैं। पढ़ने वालों ने एमएसएमई से आवान किया कि वे सेमिनरी हिल्स सीजीओ कंपलेक्स में उनके कार्यालय मे भेंट देकर स्टार्टअप तथा एमएसएमई की योजनाओं से अपने आपको अवगत कराएं।

शिडबी के ब्रांच मैनेजर डी प्रसाद राव ने शिडबी नागपुर द्वारा स्टार्टअप के लिए चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं की विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने कहा कि स्टार्टअप के लिए एक प्रतियोगिता भी सिडबी ने चालू की है। जिसके माध्यम से इनाम स्वरूप काफी पैसे मिल सकते हैं। उन्होंने सिडबी की सारी योजनाओं के बारे में बताया।

इलाहाबाद बैंक के जोनल हेड एस के सोनकर ने इस मौके पर इलाहाबाद बैंक की योजनाओं से स्टार्टअप और एमएसएमई को अवगत कराया। उन्होंने कहा कि इलाहाबाद बैंक के अधिकारी मदद करने के लिए तैयार हैं। स्टार्टअप और एमएसएमई उनके कार्यालय में भेंट करके इलाहाबाद बैंक के अधिकारियों से संपर्क करें। नेशनल स्मॉल इंडस्टरीज कॉरपोरेशन के श्री पवन जयसवाल ने एन एस आई सी के विभिन्न योजनाओं की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि एनएसआइसी में रजिस्टर हो जाने से सरकारी खरीदी में सिक्योरिटी डिपॉजिट और अर्नेस्ट मनी की सुविधा मिल जाती है। उसी प्रकार अगर दाम ज्यादा भी रहा तो 15% तक नियमों के अनुसार छोटे उद्यमी को आर्डर मिल सकते हैं। उन्होंने सभी से अनुरोध किया कि उनके दफ्तर आकर विस्तृत जानकारी ले।

यह कार्यक्रम सीडबी, एनएसआइसी और एमएसएमई विभाग के साथ संयुक्त किया गया। कार्यक्रम के शुरुआत में किशोर धाराशिवकर ने सभी अतिथियों का स्वागत किया। फारूक अकबानी ने धन्यवाद प्रस्ताव दिया तथा लिखित ठाकर ने कार्यक्रम का संचालन किया। मुख्य लोग उपस्थित थे उसमें गोपाल अग्रवाल, शंकरलाल जलाएं, जगदीश गुप्ता, स्वर्णिमा सिन्हा, एसबी बुटोलिया, सना खान, मानसी बाजीराव, राजकुमार गुप्ता, विनोद गुप्ता, मधुसूदन त्रिवेदी, सतीश बंग, प्रकाश मेहाडीया,मिताली रफीक, संजीवनी चौधरी, रजनी अग्निहोत्री सलीमा अजानी, दया बुटोलिया, पिंकूस जयसवाल, यश मेहाडीया, रेखा चतुर्वेदी, विजय चौरसिया, छाया शर्मा, महेश कुकरेजा,, अनीता तोतेवार, रविंद्र गुप्ता, सरिता चौरसिया व अन्य उपस्थित थे।