Published On : Fri, Jul 26th, 2019

अच्छी सुविधा और बेहतरीन शिक्षा मिलेगी नागपुर के सिम्बायोसिस में – डॉ.विद्या यरवडेकर

28 जुलाई को होगा उद्घाटन

नागपुर: सिम्बायोसिस इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी पुणे अपने सबसे बड़े दूसरे कैंपस का जो 75 एकर में फैला है. इसका उद्घाटन 28 जुलाई को वाठोडा में संपन्न होगा. इस दौरान मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, ऊर्जामंत्री चंद्रशेखर बावनकुले, वनमंत्री सुधीर मुनगंटीवार, महापौर समेत अन्य लोग मौजूद रहेंगे. अंतर्राष्ट्रीय मानकों के स्तर का यह आर्ट कैंपस है.

जिसमें छात्रों और शिक्षकों के लिए निवास, ऑडिटोरियम, खेल सुविधा, स्वास्थ केंद्र और अन्य सुविधाएं दी जाएगी. यहाँ 25 प्रतिशत सीटे नागपुर के विद्यार्थियों के लिए आरक्षित रहेगी और उन्हें 15 प्रतिशत की रियायत भी मिलेगी. यह जानकारी शुक्रवार को सिम्बायोसिस की प्रो-वाईस चांसलर डॉ.विद्या यरवडेकर ने आयोजित पत्र परिषद में दी. इस दौरान आर्किटेक्ट प्रोफ़ेसर सिंधु, डॉ. रमन, डॉ.सुखविंदर, डॉ.अल्टेकर समेत अन्य पदाधिकारी मौजूद थे.

डॉ.विद्या यरवडेकर ने जानकारी देते हुए बताया की सिम्बायोसिस की शुरुवात उनके पिता ने पुणे में की थी. जिसमे विदेशी विद्यार्थियों के लिए इसकी शुरुवात की गई थी. वे खुद एक प्रोफ़ेसर थे. उन्होंने बताया की विदेशी विद्यार्थियों को कई घटनाओ का पुणे में सामना करना पड़ता था. जिसके कारण यह विद्यार्थी जब अपने देश जाते थे. तो उनके जहन में यहां के लिए सही भावना नहीं रहती थी. जिसके कारण इस संस्था की शुरुवात की गई थी. इंग्लिश टीचिंग की शुरुवात 1972 में की गई थी. नागपुर का कैंपस यह पुणे के मुकाबले ज्यादा वर्ल्ड क्लास होने की बात भी उन्होंने कही.

उन्होंने कहा की इसकी इमारत काफी अच्छी है लेकिन इमारत होने से कुछ नहीं होता शिक्षा की गुणवत्ता पर यहां ध्यान दिया जाएगा. सिम्बायोसिस ने नागपुर में तीन स्कूलों के साथ अपने पाठ्यक्रमों की शुरुवात की है. जिसमे सिम्बायोसिस इंस्टिट्यूट ऑफ़ बिज़नेस मैनेजमेंट, सिम्बायोसिस सेंटर फॉर मैनेजमेंट स्टडीज, सिम्बायोसिस लॉ स्कुल और सिम्बायोसिस स्कुल ऑफ़ प्लानिंग एंड आर्किटेक्चर एवं डिज़ाइन शामिल है. उन्होंने कहा की इस वर्ष 780 इन्टेक उनके कोर्सेस में थी और सभी सीटे भर चुकी है.