Published On : Sat, Jan 18th, 2020

गोंदियाः गरीबों का हमदर्द ‘ रैन बसेरा ’

गोंदिया: ठंड और शीतलहर से जूझते बेघरों को अकसर आपने सर्द रातों में रेलवे बुकिंग ऑफिस, बस स्थानक, अस्पताल परिसर या फिर सड़क किनारे फुटपाथ पर किसी दुकान के बाहर कड़ाके की ठंड में ठिठुरते हुए मजबूरीः वश सोता हुआ देखा होगा।

एैसे गरीब और जरूरतमंदों के लिए गोंदिया में अस्थाई निवास के तौर पर रैन बसेरे की दरकार काफी वक्त से की जाती रही है, किन्तु यह भी उतना ही सच है कि, रेलटोली स्थित धोटे सुतिकागृह जिसे गोंदिया नगर परिषद ने कुछ वक्त तक रैन बसेरे के रूप में तबदील किया था, अब उस जर्जर इमारत को ६ माह पूर्व तोड़ दिया गया है तथा वहां नए अस्पताल की इमारत का निर्माण कार्य जारी है लिहाजा बेघरों के लिए सिर छुपाने का गोंदिया में कोई ठिकाना नहीं था।

आप का रैन बसेरा बनेगा आशियाना- मोदी

बिना सरकारी मदद के आम आदमी पार्टी ने गोंदिया के कुड़वा लाइन स्थित देशबंधु वार्ड के शिवमंदिर के पीछे रेलवे स्टेशन के निकट रैन बसेरा उपलब्ध कराया है।

एैसे गरीब लोग जो होटल और धर्मशाला का किराया वहन नहीं कर सकते तथा जिनका कोई घरबार नहीं होता वे इस स्थान पर रहकर सुख की रात बिता सकते है, एैसी जानकारी आप नेता पुरूषोत्तम मोदी ने १७ जनवरी को रैन बसेरा लोकार्पण अवसर पर देते कहा- ३० बॉय ४० (१२०० स्के. फिट) में बने इस रैन बसेरे की छत सिर्फ टीन की है तथा गरीब-जरूरतमंद महिलाओं के रूकने के लिए अलग से कमरा बनाया गया है, यह रैन बसेरा पूर्णतः निःशुल्क है तथा रात ९ बजे से सुबह ७ बजे तक ठहरने की सुविधा उपलब्ध रहेगी।

यहांं रूकने वालों को सिर्फ अपना पहचान पत्र (फोटो आईडी) दिखाना होगा। विश्राम के लिए नीचे प्लास्टिक की दरी और ऊपर पहनने हेतु कम्बल भी निःशुल्क दिया जा रहा है तथा बाथरूम व लाइट की भी उचित व्यवस्था यहां मौजुद है। रैन बसेरा में किसी भी प्रकार के नशे पर सख्त पाबंदी है, यहां शांतिपूर्ण वातावरण बनाए रखना और सुसज्जित व्यवहार करना अनिवार्य है।