Published On : Tue, Jul 13th, 2021

गोंदियाः एसिड अटैक की संगीन वारदात से मची खलबली

युवक के शव की पहचान मिटाने के लिए तेजाब डालकर लाश को जला दिया

गोंदिया। शहर से सटे गोंदिया-कवलेवाड़ा मार्ग पर गैस एजेंसी गोदाम के सामने एक लापता युवक की अधजली लाश मिलने से खलबली मच गई।

संभवत हत्यारों ने पुलिस को गुमराह करने तथा शव की पहचान मिटाने के लिए तेजाब डालकर लाश को जलाने का प्रयास किया। वारदात के बाद पीड़ित परिवार में कोहराम मचा हुआ है तथा परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है।

पुलिस टीम ने शव का स्पॉट पंचनामा करने के बाद लाश पोस्टमार्टम हेतु जिला अस्पताल भेज दी है। पुलिस की मानें तो एक सोची-समझी प्लानिंग के तहत हत्यारों ने वारदात को अंजाम दिया होगा और मृतक की डेड बॉडी गोंदिया-कवलेवाड़ा मार्ग पर गैस गोदाम से थोड़ा आगे झुरमुट झाड़ियों में फेंक दी। बहरहाल इस संगीन वारदात की तपतीश करने हेतु पुलिस ने फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट व डॉग स्कॉट की मदद ली है। मामले की गुत्थी समाचार लिखे जाने तक अनसुलझी है और हत्यारे पुलिस गिरफ्त से बाहर है।

मृतक की शिनाख्त गोंदिया तहसील के ग्राम बरबसपुरा (बटाना) निवासी कुलदीप के तौर पर की गई है। मृतक के विषय में बताया जाता है कि, वह एक ड्राइविंग स्कूल में नौकरी करता था तथा ड्राइविंग स्कूल की गाड़ी दुर्घटनाग्रस्त होने से वाहन को क्षति पहुंची थी, जिसपर मालक ने नुकसान के एवज में कुलदीप से डेढ़ लाख रूपये देने की मांग की थी, इसी बात को लेकर दोनों के बीच विवाद शुरू था।

7 जुलाई को मोटर साइकिल पर सवार होकर घर से निकला कुलदीप वापस घर नहीं लौटा जिसपर चिंतित परिजनों ने गुमशुदगी की रिपोर्ट गोंदिया ग्रामीण थाने में दर्ज करायी। इसी दौरान 12 जुलाई सोमवार को गुमशुदा युवक कुलदीप की बाइक गोंदिया-कवलेवाड़ा मार्ग पर सूनसान खुले खेत परिसर में दिखायी दी जिसकी जानकारी मिलने पर परिजन उस इलाके में पहुंचे तो कुछ ही दूरी पर झुरमुट झाड़ियों में एक क्षतविक्षित शव पाया गया।
सूत्रों की मानें तो लाश 4-5 दिन पुरानी हो सकती है। इस संदर्भ में पीड़ित परिवार की शिकायत पर गोंदिया ग्रामीण पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। प्रकरण के आगे की जांच जारी है।

रवि आर्य