Published On : Mon, Mar 30th, 2020

गोंदियाः सो जाओ तो रातें, जागो तो सबेरा ‘ रैन बसेरा ’

म्यूनिसिपल स्कूल इमारत के अस्थाई रैन बसेरे में ले रखी है १५० ने शरण

गोंदिया: रेलवे स्टेशन तथा बस स्टैंड के निकट शहर के मध्य स्थित मनोहर म्यूनिसिपल हाई स्कूल इमारत के ग्राऊंड फ्लोर तथा फर्स्ट फ्लोर पर स्थित कक्षाओं के कमरों में १४० से १५० जरूरतमंदों के ठहरने का निःशुल्क प्रबंध किया गया है। इनमें से कुछ मुसाफिर है तो कुछ निराश्रित जो सड़क पर रहकर अपना जीवन व्यतीत कर रहे थे, एैसे लोगों को सुरक्षित ठिकाने के रूप में यहां लाकर कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाने का प्रयास किया जा रहा है।

गोंदिया नगर परिषद के अध्यक्ष अशोकराव इंगले ने जानकारी देते बताया, करोनो से कैसे मानव जीवन को बचाया जाए, आज यह सबसे बड़ा प्रश्‍न है, लिहाजा इस स्कूल इमारत में अस्थाई रैन बसेरा बनाकर यहां उन मजबूर मुसाफिरों को शरण दी गई है जो ट्रेनें, बसें और परिवहन के साधन बंद होने से गोंदिया शहर में अटके पड़े है, साथ ही शहर की सड़कों पर खानाबदोशों की जिंदगी व्यतीत करने वाले लोगों को भी यहां लाकर सुरक्षित छत मुहैया करायी गई है। मौजुदा वक्त में अस्थाई रैन बसेरे में ठहरने वाले महिला-पुरूष की संख्या १४० से अधिक है, इनके लिए शुद्ध पेयजल, निःशुल्क भोजन की व्यवस्था सेवाभावी संस्थाओं और जिला प्रशासन के आर्थिक सहयोग से स्कूल इमारत में की गई है।

मुसीबत और हालात के मारे यहां शरण लिए लोगों का रजिस्टर भी मेंटेन किया जा रहा है जिसकी जिम्मेदारी नगर परिषद के अधिकारी बनकर को दी गई है तथा उनके सहयोगी के रूप में न.प. स्वास्थ्य विभाग व सफाई विभाग के १० कर्मचारियों की डियुटी लगायी गई है।

नगराध्यक्ष अशोकराव इंगले ने बताया, यहां ठहरने वाले सभी लोगों की नियमित स्वास्थ्य जांच हो सके इसके लिए उन्होंने गोंदिया मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ. रूखमोड़े से चर्चा की है और इस संदर्भ का पत्र भी उन्हें भेजा गया है।

संकट की इस घड़ी में गोंदिया नगर परिषद ने मानवता का परिचय देते हुए यह रेन बसेरा शुरू किया है, एैसी जानकारी नगराध्यक्ष इंगले ने दी।

अटके यात्रियों का सहारा बना, आप का रैन बसेरा
गोंदिया रेलवे स्टेशन से चंद कदमों की दूरी पर कुड़वा लाइन के देशबंधु वार्ड में आम आदमी पार्टी द्वारा संचालित रेन बसेरा, देशव्यापी लाकडाऊन की इस मुसीबत की घड़ी में आश्रय का बहुत उपयोगी स्थान बना हुआ है।

आप नेता पुरूषोत्तम मोदी ने बताया, बाहर गांव के रहने वाले यात्री ट्रेन, बस और परिवहन सेवा बंद होने से बड़ी संख्या में गोंदिया में अटके हुए है एैसे दर्जनों मुसाफिर इस रेन बसेरे में रूके हुए है तथा इन्हें मुफ्त भोजन भी प्रदान किया जा रहा है। सभी सरकारी व सामाजिक संस्थाओं द्वारा एैसे मुसीबत के मारे लोगों को यहां भेजा जा रहा है, जिनकी यहां हर संभव उचित देखभाल हो रही है।

रवि आर्य