Published On : Sat, Aug 31st, 2019

गणेश प्रतिमा का श्रृंगार कर रहे युवक को लगा करंट

Advertisement

गोंदियाः मूर्तिकार के कारखाने में घटा हादसा, मौके पर मौत

गोंदिया। 2 सित. सोमवार से गणेश चतुर्थी का पर्व शुरू हो रहा है। गणपति बप्पा के आगमन को लेकर गोंदिया सहित पुरे देश में माहौल गणेशमय हो चुका है।

Advertisement
Advertisement

घरों व पेंडालों में गणपति को लाने और उत्सव मनाने की तैयारियां शुरू हो चुकी है वहीं मूर्तिकार भी प्रतिमाओं का रंग-रोगन कर उसकी सजावट व श्रृंगार को फाइनल टच देने में जुटे है।

शहर के कुछ मूर्तिकारों के यहां ऑर्डर अधिक आ जाने से वे प्रतिमाओं के श्रृंगार हेतु इस कार्य में विशेष रूची रखने वाले कुछ स्थानीय कलाकारों की भी मदद लेते है।

अस्थाई रूप से खुले मैदानी परिसर में बांस-तालपत्री द्वारा तैयार किए गए इन मुर्ति कारखानों में सुरक्षा के कोई खास इंतजाम नहीं होते तथा जगह-जगह खुली तारों के मकड़जाल में हैलोजिन लाइट मिट्टी की मूर्तियां सूखाने हेतु टंगा दी जाती है।

हृदयविदारक घटना आज 31 अगस्त शनिवार तड़के डेढ़ बजे उस वक्त घटित हुई जब सिविल लाइन के हनुमान चौक निकट स्थित चंद्रपुरवाले मुर्तिकार के नाम से प्रसिद्ध कारखाने में प्रतिमा का श्रृंगार कर रहे प्रकाश मेघराजमल नागदेव नामक 23 वर्षीय युवक का हाथ मुर्ति के पीछे स्थित खुली विद्युत प्रवाहित तारों से टकरा गया जिससे उसके दोनों हाथों की ऊंगलियों में जोरदार करंट लगा और वह धराशाही होकर जमीन पर गिर पड़ा तथा मौके पर ही उसकी मृत्यु हो गई।

सूत्रों से प्राप्त जानकारीनुसार स्थानीय सिंधी कॉलोनी के नील गल्ली निवासी युवक प्रकाश मेघराजमल नागदेव यह मुलतः गणेशनगर के एक टेक्सटाईल कपड़ा दुकान में नौकरी करता है।

30 अगस्त के रात वह दूकान से अपने घर लौटा, तभी उसे सिविल लाईन के हनुमान चौक स्थित मूर्ति कारखाने के मालिक राजेश कोका़ेडे (रा. कंटगी/नागरा) द्वारा गणेशजी की बड़ी प्रतिमा का श्रृंगार करने का संदेश भेजा गया , जिसपर प्रकाश यह भोजन करने के बाद महज 500 रूपये मेहनताने की चाहत में कारखाने में प्रतिमा का श्रृंगार करने पहुंचा, लेकिन नियती को कुछ ओर ही मंजूर था। भयावह हादसा घटित होने के बाद मूर्ति कारखाने में जगह-जगह टंगी खुली विद्युत तारों के मकड़जाल को हटा दिया गया और हादसे की जानकारी युवक के परिजनों को दी गई।

मृतक प्रकाश के विषय में बताया जाता है कि, वह अपनी मां के साथ श्रीनगर के निरंकारी भवन निकट स्थित एक किराए का मकान लेकर रह रहा था। अब इकलौते जवान बेटे की मौत के बाद मां के बुढ़ापे की लाठी चली गई जिससे उसका रो-रोकर बुरा हाल है।

बहरहाल मृतक युवक प्रकाश का शव जिला अस्पताल में पोस्टमार्टम हेतु लाया गया। डॉक्टरों के कथन अनुसार भी युवक की मौत करंट लगने से हुई है। शवविच्छेदन पश्‍चात अंतिम संस्कार हेतु शव परिजनों को सौंप दिया जाएगा। बहरहाल इस प्रकरण के संदर्भ में पुलिस को जानकारी मिल चुकी है और वह जांच में जुटी है।

रवि आर्य

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement