Published On : Thu, Apr 1st, 2021

गोंदिया: ट्रेनों के जरिए हवाला नेटवर्क , 20 लाख जब्त

कालेधन की आशंका , रेलवे पुलिस ने केस आयकर विभाग के सुपुर्द किया

गोंदिया: नोटबंदी और जीएसटी लागू होने के बाद से हवाला कारोबार में तेजी आई है।

कोरोना के बाद इसमें और भी उछाल आया है सूत्रों की मानें तो इस गोरखधंधे से जुड़े हवाला कारोबारी नागपुर , मुंबई और अन्य बड़े शहरों तक ब्लैक मनी रकम पहुंचाने के लिए अलग-अलग पैतरे अपना रहे हैं तथा ट्रेनों के जरिए गोंदिया से प्रतिदिन भेजे जा रहे हवाला के करोड़ों रुपयों के खेल में कुरियर का इस्तेमाल किया जाता है जिसकी जिम्मेदारी सुरक्षित रकम तय ठिकाने तक पहुंचाने की होती है ।

रेलवे पुलिस ने ट्रेन से चल रहे हवाला के नेटवर्क का पर्दाफाश करते हुए एक हवाला कारोबारी से 20 लाख की नगद राशि बरामद की है।
गौरतलब है कि, दो नंबर (कच्चे) की रक्कम इस शहर से उस शहर पहुंचाने का कार्य हवाला कारोबारियों के मार्फत होता है। रायपुर से नागपुर के बीच अगर 1 लाख रूपये पहुंचाने का जिम्मा दिया जाये तो 200 से 300 रूपये हवाला कमीशन लेकर नगद 1 लाख रूपये संबधित पार्टी को तत्काल पहुंचा दिये जाते है। यही 1 लाख रूपये कच्चे की रक्कम को अगर मुंबई, दिल्ली, मद्रास, हाव़डा, बैंगलोर पहुंचाना हो तो हवाला कमीशन बढ़कर 500 रूपये हो जाता है।
एक अनुमान के मुताबिक प्रतिदिन 4 से 5 करोड़ रूपये हवाला गोंदिया से होता है।

हुआ यूं कि, गोंदिया रेलवे स्टेशन में इन दिनों ज्वलनशील पदार्थ एंव धुम्रपान की रोकथाम तथा संदिग्ध गतिविधियों पर नजर रखने हेतु मंडल सुरक्षा आयुक्त (रेसुब नागपुर) पंकज चुघ एंव सहायक सुरक्षा आयुक्त एस.डी. देशपांडे के मार्गगर्शन में विशेष अभियान चलाया जा रहा है।
अभियान के तहत 31 मार्च के दोपहर 12.40 बजे रेसुब पोस्ट गोंदिया के प्रभारी निरीक्षक नंदबहादूर ,अपराध खुफिया शाखा के प्रभारी निरीक्षक अनिल पाटील स्टॉफ के साथ ड्राईव में तैनात थे इस दौरान प्रधान आरक्षक राजेंद्र रायकवार इन्हें रेलवे स्टेशन पर एक व्यक्ति संदिग्ध अवस्था में सामान के साथ दिखायी दिया जिसपर टीम ने उसे रोकते हुए पूछताछ शुरू की तो उसने अपना नाम राकेश (46 रा. गोंदिया) बताया और उसके पास मौजूद बैग व थैले के संदर्भ में कोई समाधानकारक जवाब नहीं दे पाया लिहाजा बैग व थैले की तलाशी ली गई तो उसमें 19 लाख 99 हजार 400 रूपये की रकम पायी गयी।

रकम के संदर्भ में कड़ाई से पूछताछ में उक्त व्यक्ति ने बताया कि, खरीदी हेतु वह अपनी तथा अपने मित्रों की रकम ट्रेन क्र. 02843 द्वारा नागपुर ले जा रहा था, लेकिन नगदी पैसों के संबंध में उसके पास कोई भी वैद्य प्रमाण और लेन-देन हेतु लेखा-जोखा मौजूद नहीं था लिहाजा उक्त व्यक्ति का बयान दर्ज कर रेलवे के माध्यम से अवैध रूप से नगदी रूपयों की तस्करी के संदेह के आधार पर उसे आगे की कार्रवाई हेतू गोंदिया आयकर विभाग के सुपुर्द किया गया है।

रवि आर्य