Published On : Mon, Mar 8th, 2021

गोंदिया: बजट में विदर्भ के साथ अन्याय

किसानों , मजदूरों, आम नागरिकों को भूल गई सरकार- डॉ. परिणय फुके

भंडारा और गोंदिया के विधायक डॉ परिणय फुके ने बजट पर टिप्पणी करते हुए कहा – महाविकास आघाड़ी सरकार ने भंडारा और गोंदिया जिलों में सूखाग्रस्त किसानों को कोई सहायता नहीं दी है।

इस बजट में सोयाबीन और धान उत्पादक किसानों को कोई सहायता नहीं दी गई है।

सरकार ने गोसीखुर्द परियोजना के लिए केवल 1,000 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं लेकिन साथ ही, पुणे-मुंबई में परियोजनाओं के लिए हजारों करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं। यह भेदभाव क्यों ?

यह प्रश्न प्रस्तुत करते डॉ. परिणय फुके ने सरकार से यह सवाल जानना चाहा है कि – जब मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कुछ दिन पहले गोसीखुर्द परियोजना का दौरा किया था, तो उन्होंने घोषणा की थी कि इस परियोजना के लिए बहुत सारी सहायता प्रदान की जाएगी किंतु विदर्भ के प्रभावित किसानों और खेतिहर मजदूरों की हुई फसल नुकसान की भरपाई हेतु कोई भी मुआवजा राशि का ऐलान नहीं किया गया ?

पिछड़े वर्ग के युवाओं के लिए बजट में कोई प्रावधान नहीं है।
थोर के सामाजिक कार्यकर्ता श्री अन्नाभाऊ साठे की जन्म शताब्दी अभी-अभी बीती है। लेकिन सरकार ने उनके स्मारक के लिए कोई प्रावधान नहीं किया है। भंडारा और गोंदिया जिलों के विकास के लिए बजट में एक पैसा भी आवंटित नहीं किया गया है।

भंडारा और गोंदिया जिलों में धार्मिक और पर्यटक स्थलों के विकास के लिए बजट में कोई प्रावधान नहीं है। महाविकास आघाड़ी सरकार विदर्भ और विशेष रूप से पूर्व विदर्भ के किसानों, मजदूरों और सभी आम नागरिकों के बारे में भूल गई है ऐसी तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते डॉ. परिणय फुके ने महाविकास आघाड़ी सरकार के बजट की आलोचना की।

रवि आर्य