Published On : Thu, Feb 20th, 2020

गोंदियाः वीर बजरंगी को सोने की चरण पादुका भेंट

सिविल लाइन के हनुमान मंदिर में लगता है श्रद्धा और भक्ति का मेला

गोंदिया: सिविल लाइन के हनुमान चौक पर स्थित वीर बजरंगी के मंदिर को सिद्ध मंदिर का दर्जा हासिल है। ५ फरवरी को मंदिर में श्रद्धा और भक्ति देखने लायक थी। पेशे से श्रद्धालु शिक्षक ने अपने वेतन से थोड़ी-थोड़ी बचत कर ४ वर्षों में राशि एकत्र की और अपनी आस्था और श्रद्धा का परिचय देते हुए सिविल लाइन के हनुमान मंदिर देव संस्थान को १४ तोले सोने की चरण पादुका भक्तों के दर्शनों के लिए विधिवत पूजा अर्चना पश्‍चात अर्पित की।

शहर के शास्त्री वार्ड निवासी श्रद्धालु टीचर प्रशांत यशवंतराव कावड़े ने बताया कि, मैं काफी खुश हूं, महावीर बजरंगी ने मेरे द्वारा भेंट की गई स्वर्ण पादुका स्वीकार कर ली।

सिद्ध मंदिर में माथा टेकने पहुंचती है बड़ी हस्तियां
उल्लेखनीय है कि, प्रतिदिन बजरंग बली के दर्शनों के लिए यहां भक्तों की भारी भीड़ होती है, लेकिन कुछ सच्ची श्रद्धा और आस्था के साथ वीर महाबली के दरबार में पहुंचते है। मंदिर के पुजारी पं. सुरेंद्र शर्मा ने जानकारी देते बताया, यहां स्थापित मुर्ति प्राचीन है, मंदिर का नया जिर्णोद्वार १५ वर्ष पूर्व हुआ, तब से उनकी नियुक्ति बतौर पुजारी यहां की गई। इस सिद्ध मंदिर में मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान, सांसद प्रफुल पटेल, गृहमंत्री अनिल देशमुख, छ.ग के पूर्व मंत्री ब्रजमोहन अग्रवाल, विधानसभा अध्यक्ष नाना पटोले, एसपी, कलेक्टर, जज जैसी अनेक हस्तियां अपनी मनोकामनाएं लेकर दर्शनों हेतु पहुंचती है।

जिला परिषद स्कूल में कार्यरित जिस टीचर ने सोने की चरण पादुका भेंट की है, वे पिछले ४ वर्षों से नियमित सुबह तथा शाम की आरती में आते है और मंदिर परिसर में हनुमान चालीसा का पाठ आदि करते हुए ध्यान मग्न रहते है।

अचानक मंदिर प्रांगण में बैठे-बैठे उनके मन में ख्याल आया कि, वीर बजरंगी को कोई चढ़ावा भेंट किया जाए , सो उन्होंने छत्तीसगढ़ की राजधानी राजपुर के एक ज्वेलर्स से ५ लाख ५० हजार रूपये खर्च कर १४ तोला वजनी स्वर्ण पादुका बनवायी। यह चरण पादुका भक्तों के दर्शनों हेतु औपचारिक रूप से संकट मोचन के मंदिर में ५ फरवरी को स्थापित की गई है।

रवि आर्य