Published On : Wed, Nov 13th, 2019

गोंदियाः हत्या से हड़कंप

कानून व्यवस्था को चुनौतीः ४ दिनों में अब तक ३ मर्डर

गोंदिया: गोंदिया जिले में अपराध रूकने का नाम नहीं ले रहे। ९ नवं. को प्रथम उर्फ कान्हा का मनोहर चौक पर मर्डर कर दिया गया। १० नवंबर को जादू टोने के शक में ५ आरोपियों ने देवरी तहसील के चांदलमेटा निवासी किसान सावलराम उईके पर पेट्रोल छिड़क उसे आग के हवाले कर दिया।

१२ नवंबर के शाम ५ बजे तिरोड़ा के सार्वजनिक कुएं में एक नाबालिग युवक की लाश तैरती पायी गई, किन्हीं अज्ञातों ने १७ वर्षीय युवक की हत्या कर उसके शव को कुएं में छिपाया था। इस तरह गत ४ दिनों के भीतर ३ मर्डर की वारदातें सामने आने से जहां जिले की कानून व्यवस्था पर अब सवाल उठने लगे है वहीं कम उम्र के बाल अपराधियों का संगीन मामलों में शामिल होना यह सभ्य समाज के लिए बेहद चिंता का विषय बन चुका है।

सबूत नष्ट करने के इरादे से कुएं में छिपाया शव
तिरोड़ा के संत रविदास वार्ड के श्यामाटोली निवासी ऋषभ दिलीप करोसिया (१७) यह कच्ची उम्र के लड़कों की दोस्ती में अकसर घर से बिना बताए २-२ दिन बाहर घुमने चले जाया करता था लेकिन १२ नवं. मंगलवार के शाम उसके हत्या की खबर जैसे ही घर पहुंची तो मौहल्ले में कोहराम मच गया। जवान बेटे के मौत की खबर पाकर परिवार सदमे में है।

तिरोड़ा थाना प्रभारी दमाड़े ने जानकारी देते बताया कि, शाम ५ बजे गांधी वार्ड के गांधी प्रतिमा निकट स्थित एक होटल व्यवसायी ने फोन द्वारा जानकारी दी कि, एक युवक की लाश पास के सार्वजनिक कुएं में तैर रही है। पुलिस मौके पर पहुंची और ठाकुर पान पैलेस के पास स्थित कुएं से रस्सा डालकर लाश को बाहर निकाला। मृतक की शिनाख्त ऋषभ करोसिया के तौर पर की गई। किन्हीं अज्ञातों ने किसी धारदार शस्त्र से हत्या करने के बाद पुलिस की जांच को भटकाने के उद्देश्य से शव को कुएं में छिपाने का संभवत प्रयास किया लेकिन लाश तैरकर बाहर आ गई और रहस्य से पर्दा हटा।

मृतक के संदर्भ में बताया जाता है कि, ऋषभ करोसिया यह १० नवंबर के शाम घर से निकल गया था, २ दिन बाद उसके हत्या की खबर सामने आयी।
बहरहाल घटनास्थल को तिरोड़ा के उपविभागीय पुलिस अधिकारी नितिन यादव, सपोनि सचिन ढोके ने भेंट दी।

इस प्रकरण के संदर्भ में पुलिस ने मृतक के पिता फिर्यादी दिलीप उर्फ मट्टू सुंदरलाल करोसिया (४२ रा. श्यामटोली, संत रविदास वार्ड) की शिकायत पर अज्ञात आरोपी के खिलाफ धारा ३०२, हत्या २०१ सबूत नष्ट करने का जुर्म दर्ज किया है। प्रकरण की जांच पोनि दमाड़े कर रहे है।

 

रवि आर्य