Published On : Mon, Jun 8th, 2020

गोंदिया कोरोना मुक्त, हम होंगे कामयाब : 69 में से 67 स्वस्थ हुए , सिर्फ दो एक्टिव शेष

6 दिनों में कोई केस नहीं, रिकवरी रेट 97.10%

गोंदिया: इरादे बुलंद हो तो बड़ी से बड़ी मुसीबत को भी मात दी जा सकती है, यहीं गोंदिया ने कर दिखाया है जो अब शीघ्र कोरोना मुक्त जिला होने जा रहा है।

अब कुल 69 में से 67 मरीज इस खतरनाक वायरस को शिकस्त देकर स्वस्थ होकर घर लौट चुके है तथा लगातार पिछले 6 दिनों से एक भी नया मामला सामने नहीं आया।

गोंदिया जिले का रिकवरी रेट अन्य सभी विकसित महानगरों से 97.10 % के साथ कहीं बेहतर है इसलिए कहा जा सकता है, गोंदिया होगा कामयाब क्योंकि अब सिर्फ दो ही एक्टिव केस शेष बचे हैं।

आज सोमवार 8 जून को एक्टिव 6 में से 4 मरीज अस्पताल से डिस्चार्ज होकर घर लौट चुके है। अब डॉक्टरों का फोकस सिर्फ दो की स्वास्थ्य सेवा पर टिका है, उम्मीद जतायी जा रही है यह भी आज-कल में ही ठीक होकर घर लौट जाएंगे और गोंदिया कोरोना मुक्त घोषित होगा।

अब तक के संक्रमित मरीजों के आंकड़े पर ऩजर डाले तो 26 मार्च को जिले में पहला कोरोना केस सामने आया। तत्पश्‍चात 19 मई को 2, 21 मई को 27, 22 मई को 10 मरीज, 24 मई को 4, 25 मई को 4, 26 मई को 1, 27 मई को 1, 28 मई को 9, 29 मई को 3, 30 मई को 4, 31 मई को 1, 2 जून को 2 इस तरह संक्रमितों की संख्या 2 जून तक 69 पर पहुंच गई थी।

जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की सतर्कता के साथ-साथ स्वंय मरीजों के बूलंद हौसले के चलते उनकी सेहत में सुधार शुरू हुआ जिसका नतीजा यह रहा कि, 10 अप्रैल को पहले मरीज के स्वस्थ्य होने के बाद 28 मई को 2, 29 मई को 25, 30 मई को 4, 31 मई को 6, 1 जून को 6 , 2 जून को 4, 3 जून को 2 , 5 जून को 2, 6 जून को 6, 7 जून को 5 और आज 8 जून को 4 मरीज पूरी तरह से स्वस्थ हो गए और उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई।
जो मरीज आज स्वस्थ हुए है वे चारों गोंदिया तहसील के निवासी है और उनकी उम्र 25 से 36 वर्ष के बीच है।

गौरतलब है कि, कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रकोप के बीच जिले से अब तक 1097 लोगों के नमूने भेजे जा चुके है जिनमें से 69 की रिपोर्ट पॉजिटिव है और इनमें से 67 अब ठीक हो गए है।

इसके अतिरिक्त जिले के विभिन्न संस्थात्मक व शालाओं में 1949 लोगों को क्वारेंटाइन किया गया है , वहीं 1777 होम क्वारंटाइन है इस तरह कुल 3726 व्यक्ति अलगीकरण किए गए है, एैसी जानकारी जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. श्याम निमगड़े की ओर से दी गई है।

रवि आर्य