Published On : Wed, May 5th, 2021

गोंदिया: पश्चिम बंगाल में राजनीतिक हिंसा के खिलाफ भाजपा का विरोध प्रदर्शन

हाथों में तख्तियां और काले फीते बांधकर किया निषेध

गोंदिया: पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के नतीजों के सामने आते ही वहां से बड़े पैमाने पर हत्या , आगजनी , उपद्रव , राजनीतिक हिंसा की खबरें सामने आने लगी है। इन झड़पों में कई कार्यकर्ताओं की अब तक मौत हो चुकी है बीजेपी का आरोप है कि चुनाव में अप्रत्याशित जीत के बाद टीएमसी के समर्थकों ने जगह-जगह पार्टी कार्यकर्ताओं पर हमले शुरू कर दिए हैं।

यूं तो पश्चिम बंगाल में राजनीतिक हिंसा का एक लंबा इतिहास रहा है किंतु मौजूदा वक्त में जारी राजनीतिक हिंसा का मामला अब तूल पकड़ गया है।
गोंदिया में भाजपा नेताओं और जिला कार्यकर्ताओं ने इसे लोकतंत्र का घिनौना नाच करार देते हुए कहा – बंगाल में हिंसा की वजह से सैकड़ों बीजेपी कार्यकर्ता अपने परिवार के साथ बंगाल से असम की ओर पलायन कर रहे हैं हम इस राजनीतिक हिंसा , उपद्रव का निषेध करते हैं।


भाजपा कार्यकर्ताओं को मारना , उनके घरों को जलाना , उनकी दुकानों में आग लगाना या व्यवसाय के लिए जगह लेना पड़ रहा है यह लोकतंत्र की हत्या है इसलिए गोंदिया जिले में भारतीय जनता पार्टी आज 5 मई बुधवार को हिंसा का विरोध और ममता दीदी के सरकार का निषेध करती है।

गौरतलब है कि समूचे गोंदिया जिले में भाजपा कार्यकर्ताओं ने विभिन्न स्थानों पर हाथों में तख्तियां और काले फीते लगाकर बंगाल में जारी राजनीतिक हिंसा का विरोध किया।

लोकसभा सांसद सुनील मेंढे के जय स्तंभ चौक के स्थित जनसंपर्क कार्यालय ,पूर्व विधायक गोपालदास अग्रवाल और पूर्व विधायक रमेश भाऊ कुथे के जनसंपर्क कार्यालय सहित सभी भाजपा नगर सेवकों ने अपने- अपने कार्यालय के सामने सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस की हिंसा के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया।

इस निषेध धरना अवसर पर गोपालदास अग्रवाल , रमेश भाऊ कुथे , शहर अध्यक्ष सुनील केलनका ,जिला संगठन महामंत्री संजय कुलकर्णी, जिला कोषाध्यक्ष दिनेश दादरीवाल, जिला उपाध्यक्ष अशोक चौधरी , ग्रामीण मंडल अध्यक्ष धन्नालाल ठाकरे, नगरसेवक राजकुमार कुथे, जितेंद्र बंटी पंचबुद्धे, पार्षद क्रांति जायसवाल, दिलीप गोपलानी, उत्तर भारतीय मोर्चा के जिलाध्यक्ष अमित झा, पार्टी जिला सचिव ऋषिकांत साहू, शहर महासचिव संजय मुरकुटे, मनोज पटनायक, अशोक जयसिंघानी, नेत्रदीप (गोल्डी) गावंडे, महेंद्र पुरोहित , अजय गौर, अंकित जैन, राजेश चौरसिया, संदीप राहंगडाले, मिलिंद बागड़े, सुरेश चंदनकर, योगेंद्र सोलंकी, भारत साहू, पुरु ठाकरे, प्रवीण पटले, पूरन पाथोड़े, यशपाल डोंगरे, राकेश अग्रवाल, सुमित महावत, लोकेश महादुले सहित अनेक कार्यकर्त्ताओं ने विभिन्न स्थानों पर निषेध धरना प्रदर्शन में हिस्सा लिया।

कोरोना कॉल के चलते जिला प्रशासन के सभी निर्देशों और नियमों का अनुपालन करते हुए अलग-अलग स्थानों पर धरना प्रदर्शन किया गया ।

रवि आर्य