Published On : Sat, Sep 26th, 2020

गोंदिया: जिसका कोई नहीं उसका विहिप- बजरंग दल है यारों.

कोरोना से मरने वालों का विधि विधान से हो रहा अंतिम संस्कार

गोंदिया- कोरोना काल में लोगों की मृत व्यक्ति के प्रति संवेदना ही खत्म हो गई है।

जब किसी शव के अंतिम संस्कार के क्रिया के दौरान उसके परिवार के सदस्य नहीं दिखते , तो लगता है दुनिया कितनी बदल गई है।

अस्पताल प्रशासन द्वारा मौत के बारे में परिवार को सूचित किया जाता है तो कुछ संक्रमित के शव के दूर से अंतिम दर्शन हेतु अस्पताल पहुंचने की हिम्मत जुटा पाते हैं तो कुछ परिवार अंतिम संस्कार के लिए श्मशान घाट तक जाने तक की जहमत भी नहीं उठाते तो कुछ ऐसे होते हैं जो दूर से खड़े होकर अंतिम क्रिया देखते हैं ,अस्पताल से एंबुलेंस में शव लाने वाले पीपीई किट धारण किए एनजीओ कर्मचारियों को कह दिया जाता है इनका अंतिम संस्कार आप ही कर देना। वहीं कुछ शव ऐसे भी पहुंचते हैं जिनके बारे में कोई जानकारी नहीं होती।

मानवता के इस पुनीत कार्य का खर्च,समिति वहन करती है
बजरंग दल के महाराष्ट्र एवं गोवा प्रांत प्रमुख देवेश मिश्रा ने बताया-विश्व हिंदू परिषद- बजरंग दल द्वारा संचालित सर्व समाज मौक्षधाम सेवा समिति गोंदिया यह कोरोना से मरने वाले असहाय और निर्धन परिवारों को साथ देती है और पूरे सम्मान तथा विधि विधान के साथ मोक्षधाम परिसर में अंतिम संस्कार की सभी प्रक्रिया संपन्न कराती है।

जलाऊ लकड़ी , गोबर के कंडे और अन्य आवश्यक सामग्री से लेकर दाह संस्कार हेतु लकड़ियां जमाना , मुखाग्नि देना , दाह संस्कार विधि पश्चात ठंडी पड़ी राख उठाने की समस्त व्यवस्थाएं समिति द्वारा की जा रही है।

मानवता के इस पुनीत कार्य में होने वाला समस्त खर्च समिति ही वहन करती है ।

कोरोना संक्रमण से होने वाली मौतें निश्चित ही दुखदाई है लेकिन विहिप – बजरंग दल द्वारा संचालित सर्व समाज मौक्षधाम सेवा समिति अपने जिम्मेदारियों का निर्वहन सदैव करती रहेगी । सावधानी और सुरक्षा की दृष्टि से समिति के सेवाभावी सदस्यों को पीपीई किट पहनकर सेवा करने को कहा गया है।

रवि आर्य