Published On : Mon, Mar 30th, 2020

गोंदिया:देवदूत जवानों ने परोसा 300 जरूरतमंदों के बीच भोजन

गोंदिया– करोना के खिलाफ लड़ाई बहुत बड़ी है लिहाजा तैयारियां भी उतनी ही करनी होंगी और इसी फलसफे पर चलते हुए गोंदिया के कर्मयोद्धा रेलवे पुलिस के जवानों ने अब कमर कस ली है।

करोना के कहर और लाकडाउन के दौरान गोंदिया शहर से कल एक अच्छी खबर बाहर आई वह यह कि देवदूत बने जवानों द्वारा निर्धन और जरूरतमंदों के बीच खाना परोसकर उन्हें भरपेट भोजन कराया गया ।

संकट की घड़ी में पूरा हिंदुस्तान एकजुट हो चला है समाज में ऐसे लोगों की कमी नहीं जो विषम परिस्थितियों में सेवा भाव दिखा रहे है , ऐसे में यह पुलिस जवान दिनभर ड्यूटी करने के बाद अपना मानवता के प्रति फर्ज निभाना नहीं भूलते ।

असहायों का ख्याल इन्हें जब भी परेशान करता है तो अपनी जेब से धनराशि खर्च कर ये जवान किराना सामान इकट्ठा करते हैं और इस राशन से रसोई तैयार की जाती है जिसके बाद उन्हें बड़े -बड़े बर्तनों में भरकर ऐसे निश्चित स्थानों पर वाहनों से तैयार खाना पहुंचाया जाता है जहां गरीबों के लिए राहत शिविर बनाए गए हैं।

वहां पहुंचकर यह जवान पूरे परिसर को साफ सुथरा कर वहां उचित रोशनी तथा स्वच्छ पेयजल की व्यवस्था करते हैं तथा जरूरतमंद गरीबों को सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा -पूरा ख्याल रखते हुए अलग-अलग बिठाकर उन्हें अपने हाथों से भोजन परोसकर उन्हें भरपेट भोजन
कराते हैं इनकी यह हिम्मत और सामर्थ्य ही कोरोना को मात देगा।


असहायों का ख्याल कर निभाया मानवता का कर्तव्य
29 मार्च रविवार की रात जरूरतमंदों हेतु भोजन दान का यह कार्यक्रम मंडल सुरक्षा आयुक्त आशुतोष पांडे के निर्देशन में गोंदिया आरपीएफ तथा जीआरपी पुलिस दल द्वारा संयुक्त रूप से चलाया गया।

पोस्ट प्रभारी नंद बहादुर , जीआरपी प्रभारी श्रीमती अनीता खेड़कर , पीएसआई वानखेड़े , एमपी राउत , जी.एल चौरागड़े , विनेक मेश्राम , राहुल सिंह , एस के नेवारे , एच के मिश्रा , , आर बंधारे , जीआरपी थाने के जवान नासिर पठान , पिकल मुंडे , गौतम ,, कुक आर.जॉनी , ईश्वर , आरसी धुर्वे और अन्य सदस्यों ने मानवता का परिचय देते हुए मनोहर मुंसिपल हाई स्कूल में बनाए गए रेन बसेरे में ठहरे मुसाफिरों और सांवली बेघर सहारा केंद्र, सिविल लाइन यहां ठहरे जरूरतमंदों इस तरह दोनों सेंटरों मैं ठहरे लगभग 300 गरीब निर्धनों की थाली में चावल , दाल, चपाती, सब्जी परोस कर उन्हें भरपेट भोजन कराया।

रवि आर्य