Published On : Mon, Aug 19th, 2019

गोंदियाः 8 साल बाद मिसीपिरी के आदिवासियों को मिली उनकी पहचान

गोंदिया: देश आजादी के बाद संभवत यह पहला अवसर है कि, कोई पालकमंत्री जिले के नक्सलप्रभावित देवरी तहसील के अतिसंवेदनशील कहे जाने वाले इलाके ग्राम मिसीपिरी/ धमदीटोला क्षेत्र के आदिवासी बाशिंदों का हाल जानने पहुंचा हो।

विशेष उल्लेखनीय है कि, अतिदुर्गम घने जंगलों के बीच स्थित मिसीपिरी ग्राम पंचायत कार्यालय को वर्ष 2011 में नक्सलियों ने पेट्रोल छिड़क फूंक दिया था नतीजतन 5 गांवों का रिकार्ड अग्निकांड में जलकर खाक हो गया था।

तब से लेकर विगत 8 वर्षों से यहां के ग्रामीण अपनी पहचान पाने, शासकीय योजनाओं का लाभ उठाने से वंचित थे, जिन्हें न्याय दिलाने का कार्य मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने करते हुए विशेष तौर पर राज्यमंत्री तथा पालकमंत्री डॉ. परिणय फुके को यहां भेजा। अनेक कार्यकर्ता व लोगों ने मना किया पर पालकमंत्री ने निर्भिक और निर्डर होकर इस क्षेत्र में आने की सहमती दर्शायी।

पालकमंत्री परिणय फुके ने आदिवासियों का जाना दुख-दर्द
पालकमंत्री डॉ. परिणय फुके 19 अगस्त सोमवार को ना सिर्फ यहां पर पहुंचे बल्कि आदिवासियों से रूबरू होकर उनकी तकलीफें जानी तथा पब्लिक मीटिंग को संबोधित करते कहा- वे आदिवासियों के साथ न्याय करेंगे। उनके खेती उत्पादन के अलावा उन्हें विकास की मुख्यधारा में लाने के लिए रोजगार के अवसर भी उपलब्ध कराएंगे।

भंडारा जिले में केंद्र सरकार के भारत पेट्रोलियम मंत्रालय के माध्यम से इथेनॉल निर्मिति का बड़ा प्रकल्प प्रारंभ करने जा रहा है, ये इथेनॉल धान की तनस से निर्मित होगा और इस क्षेत्र के किसानों को भी तनस का भाव प्रति क्विंटल 7 हजार रूपये मिलेगा और इस प्लांट से 15 हजार युवाओं को रोजगार भी उपलब्ध होगा।

पालकमंत्री ने बताया- देवरी में स्टील फैक्ट्री प्रारंभ हो चुकी है जहां इस क्षेत्र के आदिवासी युवाओं को रोजगार प्राप्त हो रहा है।

इस अवसर पर उन्होंने 5 गांवों के ग्रामीणों को जन्म मृत्यु अभिलेष नोंदणी, जन्म प्रमाणपत्र का वितरण किया।
पालकमंत्री के इस दौरे में उनके साथ क्षेत्र के विधायक संजय पुराम, जि.प. अध्यक्षा सीमा मड़ावी, जि.प. उपाध्यक्ष अलताफ हामिद, जि.प. मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ. राजा दयानिधी, जिला भाजपा संगठन मंत्री बालाभाऊ अंजनकर, ग्राम मिसीपिरी सरपंच दुर्गसिंह कुंभरे, उपसरपंच जीवनलाल सलामे, जि.प. सभापति लता दोनोड़े, जि.प. सदस्य माधुरी कुंभरे, देवरी पं.स. सभापति सुनंदाताई बहेकार, उपसभापति गणेशभाऊ, जि.प. सदस्य उषा सहारे, सुंदर सिंद्राम, गिरधारी करसाल, रविंद्र पराते, मोतीराम सयाम, गोपाल ओमटे, भगदानी टेकाम सहित अनेक कार्यकर्ता उपस्थित थे।