Published On : Sat, Aug 3rd, 2019

गोंदिया: मुठभेड़ में 7 नक्सली ढ़ेर

महाराष्ट्र-छत्तीसगढ़ पुलिस ने की नक्सलियों की घेराबंदी

गोंदिया: गोंदिया जिले के बिजेपार एओपी चौकी से सटे बोरतलाव इलाके के काली पहाड़ी क्षेत्र के रेस्टजोन में कुुछ नक्सलियों के छिपे होने की जानकारी गोंदिया जिला पुलिस तथा राजनांदगांव पुलिस को मिलने पर दोनों जिलों की पुलिस ने अपने-अपने क्षेत्र में कोबिंग ऑपरेशन चलाया।

आज शनिवार 3 अगस्त सुबह 8 बजे गोंदिया जिले के अंतिम शोर तथा राजनांंदगाव जिले की सीमा में बोरतलाव तथा सितेगोटा के बीच नक्सलियों की घेराबंदी की गई। खुद को जंगल के बीच घिरा हुआ देख नक्सलियों ने फायर खोल दिया।

बुलेट का जवाब बुुलेट से देते हुए आधुनिक हथियारों से लैंस सी-60 कमांडो और पुलिस जवानों ने जमकर फायरिंग की जिसमें 7 नक्सली ढेर हो। मारे गए नक्सलियों में एक महिला नक्सली के होने के समाचार मिल रहे है।

सुबह 10 बजे तक चली भीषण गोलीबारी के बाद 7 नक्सलियों के शव और इलाका छोड़कर भागे नक्सलियों के शस्त्र और बड़ी संख्या में साहित्य तथा खाने- पीने का सामान बरामद किया गया है।

यह क्षेत्र बहुत बड़ी पहाड़ी इलाके में आता है तथा इलाका घने जंगलों से घिरा है, जिसका लाभ उठाकर नक्सली बस्तर की ओर भागने में कामियाब रहे है।

सालेकसा के थाना प्रभारी राजकुमार डूणगे ने जानकारी देते बताया- हमारा ऑपरेशन तो हमेशा चलते रहता है, यह ऑपरेशन राजनांंदगाव पुलिस द्वारा किया गया है। लिहाजा छत्तीसग़ढ़ पुलिस की प्रेस नोट आने के बाद ही स्थिति साफ होगी, फिलहाल मुठभेड थम चुकी है, इलाके के सर्च ऑपरेशन और बाकी की प्रोसेस जारी है।

गोंदिया तथा सीमावर्ती छत्तीसगढ़ के जंगल बार्डर का इलाका लगभग 5 किमी के दायरे में आता है। बिजेपार इलाके का जो मरामजोब और दानीटोला क्षेत्र है उसी एरिया का लोकेशन मिलने के बाद महाराष्ट्र पुलिस ने घेराबंदी की जिससे नक्सली कुछ आगे बढ़ गए और जिस इलाके में मुठभेड हुई है, वह राजनांदगांव जिले के सीमा क्षेत्र में आता है। हमारे जितने भी ऑफिसर थे वे ऑपरेशन में लगे हुए है, बोलतलाव क्षेत्र में नेटवर्क कमजोर होने की वजह से ताजा हालात मिलने में समस्या आ रही है, लेकिन मारे गए नक्सलियों के 7 शव बरामद होने की जानकारी मिल रही है।

रवि आर्य