Published On : Wed, Feb 4th, 2015

अहेरी : दोनों माताओं के अनशन को मिल रहा व्यापक जन-समर्थन


सामाजिक कार्यकर्ता और लोकप्रतिनिधीओं ने की अनशनकर्ताओं से मुलाक़ात

पंकज और संदीप के हत्यारों को गिरफ्तार करने की मांग के लिए 2 दिनों से अनशन कर रहीं हैं दोनों की माताएं

Hunger Strike Aheri
अहेरी (गड़चिरोली)।
अहेरी उपविभाग के आलापल्ली के पंकज सोनटक्के और संदीप इजगमकर की 13 सितंबर को अज्ञात हत्यारों ने हत्या कर दी. हत्यारों को गिरफ्तार करने तथा घटना की कड़ी जांच के लिए दोनों की माताएं परिजनों समेत 3 फरवरी से उपविभागीय कार्यालय के सामने आमरण अनशन पर है. वहीं आज अनशनकर्ताओं से सामाजिक कार्यकर्ता और लोकप्रतिनिधीओं ने मुलाक़ात की.

पुलिस की सुस्त जांच से संदेह निर्माण हुआ और इस संदर्भ में मृतकों की माताओं ने परिजनों समेत अनशन शुरू किया. मंडप में सामजिक कार्यकर्ता संतोष आत्राम, जयप्रकाश शेंडे, शारदाताई चालुरकर, ग्राम पं सदस्या आलापल्ली, मुश्ताक हकीम, सुभाष घुटे, जि.प. सदस्या लैजाबाई चालुरकर, नंदाताई दुर्गे, पूर्व जि.प. उपाध्यक्ष रविन्द्रबाबा आत्राम, रघुनाथ तलांडे, भीमराव पगाड़े, विजय चव्हाण आदि ने अनशनकर्ताओं से मुलाकात की. इस मामले में चार संदेहास्पद व्यक्तियों की जांच 2 फरवरी को की गई. लेकिन अब तक कोई मामला दर्ज नही हुआ है.

सुबह अनशनकर्ताओं से अहेरी उपविभागीय अधिकारी जितेंद्र पाटिल ने मुलाकात की. इस दौरान पाटिल ने अनशनकर्ताओं को तसल्ली देने के बजाय “आपको न्याय नही मिलेगा, आप गडचिरोली में अनशन करो” ऐसा कहां. ऐसा आरोप मृतक के पिता नानाजी इजगमकर ने सबके सामने किया. इस संदर्भ में जितेंद्र पाटिल करने पर उनसे संपर्क नही हुआ तथा कार्यालय से पता चला कि वे दौरे के लिए बाहर गए है.

हमारी मांगे पूरी होने तक हम अनशन नही तोड़ेंगे और जो मांगे तुरंत पूरी नही होगी उसके लिए लिखित पत्र दे. इस मामले में उपविभागीय पुलिस अधिकारी रमेश धुमाल ने कहां कि, इस मामले जांच शुरू है. लेकिन अब तक किसी पर मामला दर्ज नही हुआ है. अनशनकर्ताओं ने एफ.आय.आर पर हस्ताक्षर किये तो मामले को आगे बढ़ाया जा सकता है.