Published On : Wed, Nov 21st, 2018

जगह तय, डीपीआर लगभग बनकर तैयार अगर सब ठीक रहा तो सिंधी रेल्वे में मेट्रो रेल का होगा निर्माण

नागपुर: नागपुर और पूना मेट्रो परियोजना को साकार कर रही महा मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड भविष्य में खुद मेट्रो रेल का निर्माण करेगी। अगर सब ठीकठाक रहा तो कुछ वर्षो बाद मेट्रो रेल विदर्भ में ही तैयार होगी।महा मेट्रो प्रबंधन ने इस प्रोजेक्ट पर खुद ही संज्ञान लेते हुए इसे साकार करने का जिम्मा उठाया है और मेक इन इंडिया मुहीम के अंतर्गत इस संकल्पना को पूरा करने का प्रयास है।

महा मेट्रो द्वारा प्रोजेक्ट की संकल्पना तैयार किये जाने के बाद इसकी चर्चा राज्य सरकार से की गई। सरकार द्वारा महा मेट्रो के प्रोजेक्ट पर सकारात्मक रुख दिखाया गया। राज्य सरकार ने इस प्रोजेक्ट को अमली जामा पहनने के लिए प्रोजेक्ट की डीटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार करने के लिए कहाँ गया है। सरकार से अनुमति मिलने के बाद महा मेट्रो द्वारा तैयार किये जाने वाली प्रोजेक्ट रिपोर्ट लगभग पूरी कर ली गई है।

डीपीआर के तैयार हो जाने के बाद इसे मंजूरी के लिए राज्य सरकार के पास भेजा जायेगा। अगर इस पर सरकार ने तेज़ी से पहल दिखाई तो नागपुर से सटे वर्धा जिले के सिंधी रेल्वे में महा मेट्रो की ख़ुद की कोच फैक्ट्री होगी। जहाँ पूरी मेट्रो रेल तैयार होगी। इस प्रोजेक्ट के लिए लगभग 50 एकड़ जगह सुनिश्चित की गई है जो वर्धा जिले में जीएनपीटी के हालही में शुरू हुए ड्राय पोर्ट के समीप है। प्रोजेक्ट को ड्राय पोर्ट के पास स्थापित करने की प्रमुख वजह आवश्यक संसाधनों की आसानी से उपलब्धता है।

मेट्रो की कोच फैक्ट्री पीपीपी मॉडल पर तैयार की जायेगी। जिसमे विदेशी कंपनी निवेश कर सकेगी। प्राप्त जानकारी के अनुसार महा मेट्रो के इस प्रोजेक्ट पर जर्मनी की कंपनी अल्स्टॉम और स्विजरलैंड की कंपनी सीमेन्स ने रूचि दिखाई है। हालाँकि अब तक यह तय नहीं हुआ है की इन दो कंपनियों में सो कोई प्रोजेक्ट में भागीदार होगा या आने वाले वक्त में कोई और कंपनी इससे जुड़ेगी।

ऐसे तैयार होगी महा मेट्रो की कोच फैक्ट्री

-400 करोड़ प्रोजेक्ट कॉस्ट
-पीपीपी मॉडल पर प्रोजेक्ट होगा विकसित
-राज्य सरकार,महा मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन और निजी कंपनी की कारखाने में भागेदारी
-प्रोजेक्ट में पीपीपी मॉडल के अनुसार निवेश
– राज्य सरकार के पास होगी प्रोजेक्ट की ओनरशिप