Published On : Sat, May 6th, 2017

फिल्टर पानी बेचनेवालों पर एफडीए ने शुरू की जांच

Water jar

Representational Pic


नागपुर:
 शहर में पीने के पानी की कैन और जार का बिज़नेस बड़े पैमाने पर होता है। इनमें से ज्यादातर जारों और कैन पर एक्सपायरी और मैन्युफैक्चरिंग की तारीखें नहीं लिखी होती हैं। लिहाजा खतरनाक ढंग से यह ग्राहकों के बीच पीने के िलए असुरक्षित पानी पहुंच जाता है।
जिससे उनकी तबियत खराब होने की संभावनाएं बनी रहती हैं।

शहर में कई जगह पर अवैध तरीके से यह धंदा फल फूल रहा है। इन जारों पर एक्सपायरी और मैन्युफैक्चरिंग की तारीख अंकित नहीं होने से जुड़ी कई शिकायतें अन्न व औषधि प्रशासन को प्राप्त हो रही हैं। शिकायतों के मद्देनजर शनिवार से इन लोगों पर कार्रवाई शुरू की गई है। जिसके अंतर्गत तीन पानी सप्लाईयरो के पानी के सैंपल जब्त किए जाने की सूचना विभाग से सूत्रों ने दी है। जब्त किए गए नमूनों में एक्वा कूल, जैन फ़ूड एंड बेवरेजेस के साथ सीताबर्डी के सुजल एक्वा का समावेश है।

अन्न विभाग के सहायक आयुक्त मिलिंद देशपांडे ने जानकारी देते हुए बताया कि टीम बनाकर इन लोगों की दुकानों पर छापे मारे गए थे। सभी तीन जगहों से जांच के िलए सैंपल लिए गए है। रिपोर्ट आने पर नियम अनुसार कार्रवाई की जाएगी।