Published On : Wed, Mar 24th, 2021

देशमुख मामले में फडणवीस ने राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन

पूछा- CM मौन क्यों, कांग्रेस की कितनी हिस्सेदारी

नागपुर– महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख पर वसूली के आरोपों के बाद सियासी घमनासान जारी है. आज महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व में बीजेपी नेताओं के प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की और उन्हें अपना ज्ञापन सौंपा. इसके बाद फडणवीस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पूछा है कि सीएम उद्धव ठाकरे मौन क्यों हैं. बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस के कहा, महाराष्ट्र में जिस प्रकार की घटनाएं हो रही हैं, चाहे पैसे की उगाही की घटना हो या ट्रांसफर का रैकेट हो, ये सारी घटनाएं दुखदायी हैं. इतनी सारी घटनाएं होने के बावजूद मुख्यमंत्री ने उस पर एक बयान भी नहीं दिया. पवार साहब ने दो प्रेस कॉन्फ्रेंस की लेकिन उन्होंने सिर्फ अपने मंत्री को बचाने की कोशिश की.

फडणवीस ने महाविकास अघाड़ी सरकार को महावसूली सरकार कहते हुए कहा, “इस पूरे मामले में कांग्रेस का क्या अस्तित्व है हमको समझ में नहीं आता. लेकिन ये ध्यान में आता है कि शायद इस हफ्ता वसूली में कांग्रेस का भी हिस्सा होगा. इसलिए वो मौन है. कांग्रेस खुद ही बताए कि जितनी सत्ता में हिस्सेदारी है उतनी ही हफ्ते में उनकी हिस्सेदारी है क्या.”

“राज्यपाल को माननीय मुख्यमंत्री से रिपोर्ट मंगानी चाहिए”

फडणवीस ने कहा, ‘आज हमने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की. अलग-अलग विषयों पर चर्चा की. राज्य के प्रमुख भले ही मुख्यमंत्री हैं लेकिन संवैधानिक प्रमुख राज्यपाल हैं. माननीय राज्यपाल को मुख्यमंत्री से एक रिपोर्ट मंगानी चाहिए. इस वसूली की घटना में क्या कार्रवाई की गई, इस पूरे रैकेट पर क्या कार्रवाई की गई. इन सभी विषयों पर राज्यपाल को माननीय मुख्यमंत्री से रिपोर्ट मंगानी चाहिए.’

महाराष्ट्र में बढ़ते कोरोना संक्रमण पर भी फडणवीस ने ठाकरे सरकार पर हमला किया. उन्होंने कहा, ‘इस सरकार का कोरोना की ओर ध्यान ही नहीं है, जिस प्रकार से कोरोना के मामले महाराष्ट्र में बढ़ रहे हैं ये देश का एपिक सेंटर बना है. महाराष्ट्र में ही कोरोना इतना क्यों बढ़ रहा है? सरकार ने इस पर क्या उपाय किया है?’