Published On : Tue, Dec 17th, 2019

सही में अगर फडणवीस को मदद करनी है किसानो की, तो हमारे साथ दिल्ली चले: पृथ्वीराज चौहान

नागपुर- विधानसभा शीतसत्र के दूसरे दिन हंगामे के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चौहान ने कहा की किसानों को राहत मिलनी चाहिए। यही हमारी मांग थी। लेकिन सरकार अभी गठित भी नहीं हुई है और साथ में राज्य की वित्तीय परिस्थिति क्या है, उसका जायजा लिया जा रहा है। राज्य पर 4 लाख 71 हजार करोड़ रुपए का डायरेक्ट कर्ज है। महामंडलो और कारपोरेशन का अतिरिक्त 2 लाख करोड़ रुपए का कर्ज है।

पूरा कर्ज 6 लाख 71 हजार करोड़ का है। महाराष्ट्र के इतिहास में महाराष्ट्र पर इतना कर्ज कभी नहीं हुआ है। मुख्यमंत्री ने एक वाइट पेपर प्रकाशित करने की बात कही है। लेकिन वह कोई एक घंटे में थोड़े ही होगा। भाजपा ने विधानसभा का कामकाज एक घंटा भी नहीं होने दिया। कुछ समय दीजिये राज्य की आर्थिक स्थिति का जायजा लेने दीजिये।

देवेंद्र फडणवीस को अगर मदद करनी है किसानो की, तो वे हमारे साथ दिल्ली चले। मोदी सरकार से 14 हजार 600 करोड़ रुपए की मांग की है। फडणवीस इसकी मांग हमारे साथ करे। लेकिन वह नहीं किया जा रहा है। चर्चा नहीं होने दी जा रही है।


विदर्भ के मुद्दे पर कोई भी चर्चा नहीं हो सकी। नागपुर में इसलिए अधिवेशन होता है ताकि विदर्भ के प्रश्नों पर चर्चा हो सके। देवेंद्र फडणवीस ने विदर्भ के किसानों की, विदर्भ के पिछड़ेपन के चर्चा के प्रस्ताव सत्तापक्ष की ओर से रखा गया था, उसपर चर्चा नहीं होने दी