Published On : Thu, Dec 13th, 2018

फडणवीस सरकार के ख़िलाफ़ गोवारी समाज का अन्न और देह त्याग आंदोलन

नागपुर : गोवारी समाज,आदिवासी समाज का अंग है ऐसा निर्माण मुंबई उच्च न्यायालय की नागपुर खंडपीठ ने अपने फ़ैसले में दिया था। इस फैसले को चार महीने हो चुके है बावजूद इसके समाज ने इस संबंध में अब तक अध्यादेश नहीं निकाला है। इसी बात से नाराज़ गोवारी समाज के लोग 15 दिसंबर से अन्न और देह त्याग आंदोलन करने वाले है।

Advertisement

आदिवासी गोवारी समन्वय समिति ने अपने इस आंदोलन की जानकारी देते हुए कहाँ है कि शीतकालीन अधिवेशन के दौरान विधानसभा और विधानपरिषद के सदस्यों द्वारा इस प्रश्न को उठाया गया। पर सरकार ने कोई सकारात्मक कदम नहीं उठाया है। लगभग चार दशकों से समाज के लोग अपनी इस माँग को लेकर आंदोलन कर रहे है। 23 नवंबर 1994 को नागपुर से 114 गोवारी समाज के लोग आंदोलन में शहीद हो गए। अदालत ने 14 अगस्त 2018 को समाज के पक्ष में ऐतिहासिक निर्णय दिया।

Advertisement

इस निर्णय में आदेश पर तत्काल अमल करने का आदेश भी दिया बावजूद इसके इस आदेश को चार महीने बीत जाने के बाद भी सरकार के कान में जूं तक नहीं रेंगी जिससे समाज में नाराजगी है।

Advertisement

अपनी इसी नाराज़गी को प्रदर्शित करने के लिए अन्न और देह त्याग का फैसला लिया गया। समिति का कहना है ही सरकार इस मसले को लेकर दोहरी भूमिका निभा रही है। राजस्व मंत्री चंद्रकांत पाटिल ने गोवारी समाज के आरक्षण के प्रश्न पर जल्द निर्णय लेने का भरोषा दिलाया था पर ऐसा अब तक नहीं हुआ।

सरकार आखिर क्या चाहती है इसे लेकर समाज में संभ्रम की स्थिति है। इसलिए 15 दिसंबर से नागपुर स्थित शहीद स्मारक में आंदोलन किया जायेगा।

Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement