Published On : Sat, Apr 22nd, 2017

मेट्रो का कार्य डाल रही परीक्षार्थियों की परीक्षा में खलल

Metro Work front of Santaji College
नागपुर:
 शुक्रवार को शहर के विभिन्न महाविद्यालयो में आर्ट्स, कॉमर्स और विज्ञान के छात्रों की परीक्षाएं थी।विद्यार्थियों को मूलभूत सुविधाएं देने के लिए राष्ट्रसंत तुकडोजी महाराज नागपुर विद्यापीठ की ओर से सभी महाविद्यालयों को सूचनाएं दी जा चुकी थी। लेकिन शहर में चल रहा मेट्रो का निर्माण कार्य परीक्षार्थियों के लिए शुक्रवार को सिरदर्द बढ़ानेवाला साबित हुआ।

दरअसल वर्धा रोड के छत्रपति चौक के पास संताजी महाविद्यालय है। महाविद्यालय के सामने मेट्रो का कार्य चल रहा है। जहां पर क्रेन और गड्डे खोदने वाली मशीनों के सहारे से कार्य किया जा रहा है। यहां पर दिनभर मशीनों की कर्कश आवाज सुनने के लिए नागरिक मजबूर है। लेकिन शुक्रवार को पेपर देने आए विद्यार्थी भी इससे परेशान हो गए। दोपहर ढाई बजे से शुरू हुई परीक्षा में 3 घंटो तक विद्यार्थियों को मेट्रो परियोजना के चल रहे कार्य की कर्कश आवाजों ने काफी परेशान कर दिया। इस दौरान कई विद्यार्थियों का पेपर भी खराब गया तो वहीं कई विद्यार्थियों का समय भी खराब हुआ।

यहां विभिन्न संकायों के करीब 300 विद्यार्थियों को यह परीक्षा केंद्र दिया गया था। परीक्षा लगभग 2 मई तक चलेगी। पहले पेपर के बाद अब मेट्रो के चल रहे कार्यों के कारण हुई परेशानी के चलते अब विद्यार्थियों को यह डर सताने लगा है कि इस पेपर की तरह कही उनका दूसरा पेपर भी खराब न हो जाए। विद्यार्थियों ने अपनी परेशानियों को बताते हुए कहा कि नागपुर विश्वविद्यालय को जब पता था कि शहर में कई जगहों पर मेट्रो का कार्य शुरू है, तो उन्होंने विद्यार्थियों को ऐसे जगह पर सेंटर क्यों दिए गए जहां मेट्रो का कार्य शुरू है। परीक्षा देकर आए विद्यार्थियों ने यह भी बताया कि 3 घंटे के पेपर में हर 20 मिनट बाद जमींन में मशीन के माध्यम से लगभग 10 मिनट तक गड्डे खोदने की आवाजें आती थी। जिसके कारण पेपर देने में भी मन नहीं लग रहा था। तो कई विद्यार्थी पेपर हल करते समय आवाज होने पर कानों में ऊंगली डालकर बैठने पर विद्यार्थियों को मजबूर कर रहे थे। अब ऐसे में सवाल यह उठता है कि अगर इन विद्यार्थियों का पेपर खराब गया तो क्या इसकी जिम्मेदारी नागपुर विश्वविद्यालय लेगा.