Published On : Mon, Apr 5th, 2021

सब साथ आकर कोरोना के खिलाफ लड़ेंगे – मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे

सरकार के साथ मजबूती से खड़े होने की उद्योजकों ने दी ग्वाही

मुंबई: कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए उद्योग जगत कुछ समय के लिए कारखानों में जरुरत के अनुसार ही कामगारों को बुलाएं , प्रकोप को रोकने के लिए जिन उद्योगों को उनके कारखानों तथा मिल परिसर में कामगारों के रहने की व्यवस्था करना संभव होने पर वे कामगारों के रहने की व्यवस्था करें, जहाँ पर वर्क फ्रॉम होम करना संभव होगा, वहां पर उस तरह से किया जाए, जो कामगार कोविड बाधित होंगे फिर इसमें भले ही वह कामगार कंत्राटी तथा करार पद्धति का कामगार हो, उनके परिवार की जिम्मेदारी लेते हुए उनकी रोजीरोटी शुरू रहेगी इस बात का ध्यान रखें, यह कहते हुए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कोविड के खिलाफ की लड़ाई में एक परिवार की तरह हम सब मिलकर एक साथ आकर इस संकट का सामना करेंगे और इस पर मात करने का आवाहन किया.

समूचा उद्योग जगत सरकार के साथ है – उद्योग जगत ने दी ग्वाही
मुख्यमंत्री के अपील तथा आवाहन को सकारात्मक प्रतिसाद देते हुए उद्योग जगत सरकार और मुख्यमंत्री के साथ मजबूती से खड़ा है और रहेगा यह ग्वाही उद्योग जगत ने दी. इन दिनों लोगों की जान बचाने को प्राथमिकता होने से सरकार की ओर से जो निर्णय लिया जायेगा उसे सहयोग करने की उद्योग जगत की तैयारी होने की बात इस अवसर पर उपस्थितों ने कहीं. साथ ही 24×7 टीकाकरण होने, कोरोना प्रतिबंधात्मक उपाययोजनाओं का, प्रतिबंधों का पालन नहीं करनेवालों को कड़ा जुर्माना लगाने, अनुशासन तथा शिस्तबद्धता को लेकर कड़ी नियमावली तैयार करने, लोगों का रोजगार शुरू रहेगा इस बात को देखने, जहाँ पर संभव होगा वहां पर वर्क फ्रॉम होम करने की सुचना देने ऐसे विविध बातों तथा विचारों को व्यक्त किया. इसके अलावा सरकार कोविड नियंत्रण के लिए कर रहे अथक प्रयासों का भी उद्योग जगत के प्रतिनिधियों ने अभिनंदन किया.

कोविड के बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर आज मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्य के प्रमुख उद्योजकों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के द्वारा संवाद साधा, इस दौरान बोल रहे थे.

बैठक में उद्योग मंत्री सुभाष देसाई, सार्वजनिक स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे, चिकित्सा शिक्षा मंत्री अमित देशमुख, राज्य के मुख्य सचिव सीताराम कुंटे, मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव आशिषकुमार सिंह, प्रधान सचिव विकास खारगे, सार्वजनिक स्वास्थ्य विभागके प्रधान सचिव प्रदीप व्यास, उद्योग विभाग

के डॉ. पी अन्बल्गन समेत उद्योजक सर्वश्री. उदय कोटक, अजय पिरामल, सज्जन जिंदाल, बाबा कल्याणी, हर्ष गोयंका, निखिल मेस्वानी, अशोक हिंदुजा, निरंजन हिरानंदानी, अपुर्व भट्टाचार्य, हर्ष गोयंका, बोमन इराणी, राजीव रस्तोगी, संजीव बजाज, मनदीप मोरे, इशान गोयल, अमित कल्याणी, अपूर्व देशपांडे, जफर खान, राजेंद्र गाडवे, आनंद गांधी, सिद्धार्थ जैन एवं अन्य मान्यवर उपस्थित थे.

बैठक की शुरुआत में प्रदीप व्यास ने उपस्थितों को राज्य की कोविड की स्थिति और किए जा रहे उपायययोजनाओं को लेकर जानकारी दी.

अमूल्य सहयोग.. अथक् प्रयास
मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर हम अनर्थ रोकना चाहे तो अर्थचक्र बाधित होता है और अगर अर्थचक्र जारी रखना है तो अनर्थ होता है. अभी हम ऐसे पेचिदा स्थिति में अटके हुए है. इसलिए इस संकट की घडी में मित्र बनकर साथ रहना बहुत जरुरी होता है. राज्य के उद्योग जगत ने हमेशा ही मित्रता के भाव से सरकार को मदद की है, सहयोग किया है. इस बात पर उन्हें जितना धन्यवाद दिया जाए उतना कम है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि जिंदाल उद्योग समूह ने आगे आकर ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए सरकार को सहयोग किया है और सहयोग की भूमिका ली है. बाबा कल्याणी ने वेंटिलेटर्स के निर्माण ही नहीं बल्कि उसके उपयोग का प्रशिक्षण एवं स्वास्थ्य कर्मचारी और प्रोद्योगिकी देने की तैयारी भी दर्शायी है. उनकी यह मदद अमूल्य है. कुछ उद्योजकों ने उनके कामगारों के टीकाकरण की जिम्मेदारी लेने की तयारी दर्शायी है. हम सभी टीकाकरण को तेजी से बढ़ाने का प्रयास कर रहे है. प्रधानमंत्री की ओर इस तरह से अनुरोध भी किया है. सिर्फ हमारे राज्य ने ही 45 वर्ष के ऊपर के नागरिकों का पूरा (सरसकट) टीकाकरण करने की मांग की थी. अब आपके राज्य के सभी नागरिकों के टीकाकरण की मांग भी प्रधानमंत्री तक पहुंचाते है. साथ ही उसके लिए अधिक ( वाढीव) टीके के डोज मांग भी करेंगे.

राज्य की 24×7 टीकाकरण की तैयारी
बड़े तेजी से बढ़ रहे इस प्रकोप को रोकना अब सबसे पहली तथा उच्चतम प्राथमिकता हो गई है यह कहते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि टीकाकरण के कारण उसका स्वरूप (घातकता) कम होता है, जो की स्पष्ट किया है. राज्य की 24×7 टीकाकरण की तैयारी है. जहाँ पर 20 बेडस है, उस स्वास्थ्य केंद्र में टीकाकरण के लिए अनुमति ली गई है. टीकाकरण करते समय टीके की सुरक्षितता भी महत्वपूर्ण है. इसलिए डॉक्टर की निगरानी में टीकाकरण को प्राथमिकता दिए जाने की बात उन्होंने कहीं.

कुछ कड़े प्रतिबंध की भी आवश्यकता
सरकार लॉकडाऊन के पक्ष में नहीं है, इंडस्ट्री शुरू रहनी ही चाहिए लेकिन इसे शुरू रखते समय कुछ कड़े प्रतिबंध तथा नियम लगाना भी जरुरी होने की बात उन्होंने कहीं. कुछ उद्योजकों ने स्थानीय बस्तियों में कोरोना प्रतिबंधक वर्तन होने की दृष्टी से स्वयंसेवक बनकर काम करने की तैयारी दर्शाने पर उनके प्रति आभार व्यक्त करते हुए उद्योजकों को उनके कामगारों को मास्क लगाने की, अनुशासन की, समय-समय पर कोरोना टेस्ट कराने का आवाहन किया. हम सब एक है इस भाव से आगे बढ़ते हुए मुख्यमंत्री ने उद्योजकों का एक ग्रुप तैयार करने के निर्देश सुचना मुख्य सचिव को दिए. उद्योजकों की अपेक्षा और उनकी मांगों को समझते हुए समय-समय पर इस ग्रुप के द्वारा उनसे संवाद साधने के लिए कहा.

हालात हाथ से निकलने से पहले ही….
ऑक्सीजन और वेंटिलेटर्स के निर्माण के लिए आगे आनेवाले उद्योजकों के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उद्योग मंत्री सुभाष देसाई ने कहा कि प्रकोप इतने तेजी से बढ़ रहा है की आनेवाले दिनों में हमने स्वास्थ्य सुविधाओं का निर्माण किया है फिर भी स्वास्थ्य विषयक डॉक्टर्स, विशेषज्ञ और स्वास्थ्य कर्मचारियों की कमी महसूस होगी. पिछली बार हमने केरल जैसे राज्य से डॉक्टर्स बुलाये थे लेकिन इस बार कई राज्यों में प्रकोप होने से वहां से मदद मिलने की संभावना भी कम है. ऐसे में हालात हाथ से निकलने से पहले ही कड़े प्रतिबंध लगाना जरुरी है. उद्योग जगत इसके लिए सहयोग करेंगे ही लेकिन इस सहयोग में वे अपने-अपने कामगारों का भी ध्यान रखेंगे.

कॉर्पोरेट कंपनियों के अस्पतालों ने तैयारी दर्शाने पर
जिन कॉर्पोरेट कंपनियों के अस्पताल है वे आगे आकर टीकाकरण की तैयारी दर्शाने पर उन्हें टीकाकरण की अनुमति देने को लेकर केंद्र सरकार की मंजूरी लेने की बात सार्वजनिक स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहीं. साथ ही उन्होंने बाबा कल्याणी के वेंटिलेटर्स उत्पादन और प्रशिक्षण, जिंदाल के ऑक्सीजन निर्माण एवं आपूर्ति को लेकर सहयोग अमूल्य एवं स्वागतार्ह होने की बात कहीं.

अमित देशमुख ने भी किया स्वागत
अमित देशमुख ने ऑक्सीजन और वेंटिलेटर्स के उत्पादन के लिए उद्योजक स्वयं से आगे आने पर उनके प्रति धन्यवाद ज्ञापन किया.

ऑक्सीजन के वाहतूक के लिए मदद करें – मुख्य सचिव
मुख्य सचिव श्री. कुंटे ने श्री. जिंदाल के ऑक्सीजन निर्माण का स्वागत करते हुए दूर-दराज क्षेत्र में ऑक्सीजन की आपूर्ति होने की दृष्टी से वाहतूक के लिए सहयोग करने की अपील की.