Published On : Wed, Jul 20th, 2016

बिजली बिल हज़ारों में, किराया मात्र मामूली

शिवसेना नगरसेविका दलाल ने लगाया आरोप

electricity bills
नागपुर:
मनपा की कई स्कूल नाममात्र शुल्क लेकर स्कूल चलाने के लिए कई संस्थानों को दी है। लेकिन वे संस्थाएं स्कूल का बिजली का बिल नहीं भरती है। इस वजह से मनपा प्रशासन को हर माह इस संबंध में लाखों रूपए का नुकसान हो रहा है। उक्त आरोप शिवसेना की वरिष्ठ नगरसेविका अलका दलाल ने लगाया।

अलका दलाल के ज्वलंत मुद्दे से सकपकाए स्थायी समिति अध्यक्ष बंडू राऊत ने सभागृह से गुजारिश की कि उक्त सवाल सभागृह में नियमानुसार लाये। वही आभा पांडे ने सवाल उठाया कि 30 स्कूल के 135 क्लास वर्ष 1961 से अबतक किराए पर चल रही है। जिन पर आज भी पुराना किराया लागु है। कई किराएदार संस्थाओं पर किराया बकाया है। इस तरह निजी संस्थाएं मनपा प्रशासन पर हावी होती जा रही है।

पांडे ने महापौर का ध्यानाकर्षण करते हुए कहा कि हर माह आमसभा में महापौर के निर्देशों को प्रशासन गंभीरता से नहीं लेता और न ही पालन करता है। पांडे के सवाल का जवाब देते हुए मनपायुक्त ने कहा कि विभाग के अधिकारियो की जिम्मेदारियां बदलती रहने के कारण प्रशासन को कई अड़चने आ रही है। लेकिन व्यक्तिगत धांधलियों को नहीं बर्दाश किया जायेगा। प्रशासन ने जवाब दिया कि सितंबर माह में आमसभा में शिक्षण विभाग से संबंधित नई निति पेश की जाएगी।

– राजीव रंजन कुशवाहा