Published On : Wed, Jun 3rd, 2020

जिम संचालको, ट्रेनर और कर्मियों पर आयी आर्थिक मंदी, बेरोजगार होने का मंडरा रहा संकट

नागपूर-लॉकडाउन के कारण देश में अब आर्थिक मंदी दिखाई दे रही है. कई संस्थानों में कर्मचारियों को काम से निकाला गया है. शहर में भी कमोबेश यही हाल है. शहर में 2 महीनों से ज्यादा समय से जिम बंद है. जिसके कारण अब जिम संचालकों, ट्रेनर, जिम में काम करनेवाले कर्मचारियों पर बेरोजगारी, पैसों की कमी का संकट आ गया है. जानकारी के अनुसार नागपूर शहर में 500 के करीब छोटे और बड़े जिम है. जहां पर हजारों की तादाद में एक्सरसाइज करने लोग आते है. शहर में 14 मार्च को ही जिम संचालकों को जिम बंद करने का नोटिस आया था.

जिसके कारण 2 महीनें से ज्यादा समय से जिम बंद है. जिम के बंद होने की वजह से ग्राहकों का आना बंद हो गया है, इससे उन्होंने 2 महीनों से पैसे भी नहीं दिए है. संचालक अपनी जेब से कर्मचारियों को वेतन दे रहे है. लेकिन इसमें सबसे ज्यादा परेशान बैंक और जिम की जगह के ओनर की ओर से किया जा रहा है. शहर में कई जिम संचालकों ने बैंक से कर्ज लेकर यह महंगे- महंगे इक्विपमेंट लिए थे. जिसके कारण अब बैंक वाले इन लोगो को इन्सटॉलमेंट के लिए परेशान कर रहे है. इन जिम संचालकों पर अब पैसों की तंगी आ चुकी है. ‘ नागपूर टुडे ‘ की ओर से नागपूर के कुछ जिम संचालकों से बात की गई और उनकी परेशानियों के बारे में जाना गया.

नागपूर जिम ओनर एसोसिएशन के जनरल सेक्रेटरी रोहित साहू ने बताया की कमाल चौक में उनका जिम है. 60 से 70 ग्राहक है. लॉकडाउन के बाद से ही जिम बंद है. उनके यहां ट्रेनर और कर्मी मिलाकर 4 लोग काम करते है. उन्हें बड़ी मुश्किल से वेतन दिया गया है. जिम बंद होने की वजह से ग्राहक नहीं आ रहे है और ऐसे में पैसों के श्रोत बंद हो गए है. जिस जगह पर जिम है, उसके किराए के लिए मालिक परेशान कर रहा है. बैंक से इक्विपमेंट के लिए लोन लिया था. 2 महीने से इन्सटॉलमेंट नहीं देने के कारण वो भी परेशान कर रहे है और जिम का सामान लेकर जाने की धमकी दे रहे है. रोहित ने बताया की जिम शुरू करने को लेकर शहर के पालकमंत्री, क्रीड़ा मंत्री, मनपा आयुक्त, समेत विधायकों को भी निवेदन दिया गया है. लेकिन किसी भी तरह का निर्णय जिम खोलने को लेकर नहीं हुआ है.रोहित ने कहा की ऐसे ही रहा तो उनके सामने ख़ुदकुशी के अलावा कोई रास्ता नहीं रहेगा.

ऐसे ही न्यू शुक्रवारी के फिटनेस कोर्टयार्ड नाम के जिम के ओनर सुमित बनोडे से बात की गई. उन्होंने जानकारी देते हुए बताया की उनकी जिम में 350 ग्राहक है. लेकिन 2 महीने से जिम बंद होने के कारण ग्राहकों की और से पैसे नहीं मिले है. जिन ग्राहकों ने लॉकडाउन से पहले साल भर की मेम्बरशिप ली थी, वे भी अब पैसे वापस मांग रहे है. सुमित ने बताया की 19 लोग उनके जिम में काम करते है. उन्हें वेतन देने में भी काफी परेशानी हो रही है. 1 साल पहले ही जिम खोला गया था. बैंक से लोन लेकर इसे शुरू किया गया था. बैंक की ओर से भी इन्सटॉलमेंट के लिए कहां जा रहा है. सुमित का कहना है की जिम से रिलेटेड बिजनेस पर भी इसका असर हुआ है.

उन्होंने प्रशासन से मांग की है की जिम खोलने की अनुमति दी जाए, क्योंकि कोरोना से लड़ने के लिए जिम ही उपयुक्त है. सुमित का कहना है की किसी भी जिम करनेवालों को कोरोना नहीं हुआ है. उनका कहना है की जिम खोलने की अनुमति देने पर नियमों का पूरा ख्याल रखा जाएगा. इसके साथ ही जिम में सेनिटाईज़ की व्यवस्था, सोशल डिस्टन्सिंग का भी पूरा ख्याल रखा जाएगा. इसके साथ ही जिम में आने और जानेवालो का टेम्परेचर भी चेक किया जाएगा. उन्होंने कहा की जिम संचालको की परेशानी को लेकर पालकमंत्री, मनपा आयुक्त, विधायक से भी मुलाक़ात की गई है. लेकिन अभी तक कोई भी निर्णय नहीं हुआ है.