Published On : Mon, Nov 27th, 2017

कोई एप डाउनलोड किया है? सावधानी हटी, दुर्घटना घटी

Representational Pic


नई दिल्ली: आपके स्मार्टफोन पर लोकप्रिय एप आपके लिए यूजफुल और मजेदार हो सकते हैं, लेकिन इनमें मेलवेयर हो सकता है. इससे हैकर आपके आंकड़े तक पहुंच सकते हैं. कई बार फोन हैक करने की घटना और उसमें आपके आंकड़े चुराने की घटना के पीछे यही वजह होती है.

32 साल के दीपक टेक सैवी हैं और अपने फोन से चिपके रहने के अलावा गेम्स डाउनलोड करना उन्हें बहुत पसंद है. इस बात का अंदाजा उन्हें तब हुआ जब पानी सर के ऊपर से गुजर चुका था. एक गेमिंग एप डाउनलोड करने के दो घंटे के अंदर ही उनका फोन बहुत स्लो हो गया और हैंग हो गया. यह गेमिंग एप पहले उन्हें बड़ा मजेदार लग रहा था.

अब उन्हें एहसास हुआ कि गेमिंग एप के माध्यम से कोई मेलवेयर उनके फोन में पहुंच चुका है.

गूगल प्ले स्टोर पर 4,00,000 से अधिक एप पर सायबर सिक्योरिटी कंपनी नाउ सिक्योर ने एक सर्वे किया. सर्वे में पता लगा कि करीब 11 फीसदी एप संवेदनशील आंकड़ों की चोरी करते हैं. इनमें से करीब 25 फीसदी एप में कोई ना कोई एक सिक्योरिटी की बड़ी चूक है. लोकप्रिय एप में से 50 फीसदी किसी ना किसी एड नेटवर्क को डेटा भेजती हैं.

इन सूचना में फोन नंबर, IMEI नंबर, कॉल लॉग, लोकेशन संबंधी जानकारी शेयर करती हैं.

फ्री वाले स्मार्टफोन एप के जरिये आने वाले मेलवेयर आपके लिए अधिक खतरनाक हैं. इसकी वजह यह है कि सुरक्षा संबंधी खतरों के मामले में आपका स्मार्टफोन कंप्यूटर से अधिक संवेदनशील है. देश में जिस तरह स्मार्टफोन यूजर की संख्या बढ़ा रही है, उसके हिसाब से जोखिम भी बढ़ रहा है.

कैस्पर स्काई के एक सिक्योरिटी बुलेटिन के मुताबिक साल 2016 में एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम पे मेलवेयर का एक अचानक हमला हुआ था.

सभी एप जो आपके फोन में एक्सेस मांगते हैं, वे इतने खतरनाक नहीं हैं. कुछ एप आपके डिवाइस पर पूरा कंट्रोल पाने के बाद भी सिर्फ आपका नंबर ही थर्ड पार्टी को भेजते हैं. कुछ एप हालांकि आपने बैंक एकाउंट डीटेल, पासवर्ड और फोटोग्राफ भी चुरा लेते हैं.

नाउ सिक्योर की स्टडी में पता लगा कि गूगल प्ले स्टोर पर 10 लाख से अधिक डाउनलोड वाले एप में से भी 16,036 एप जोखिम वाले हैं.