Published On : Sat, Dec 22nd, 2018

नागपुर में मंजूर हुए 56हजार करोड़ के विकास कार्य

नागपुर: भूतल परिवहन मंत्री नितीन गडकरी ने कहा है कि 4 वर्ष में नागपुर में करीब 56 हजार करोड़ के विकास कार्य मंजूर हुए हैं। कई नामी संस्थाओं ने नागपुर में काम आरंभ किया है। अनेक प्रकल्प पूरे हुए हैं।

सड़क पुल के लिए 6,448 करोड़ के काम शहर में सड़क पुल के लिए 6,448 करोड़ के कार्य मंजूर किये गए हैं। जीरो माइल से भीलगांव नाका कामठी रोड,वाड़ी एमआईडीसी जंक्क्शन उड़ानपुल, खापरी उड़ानपुल, िलबर्टी सिनेमा से पागलखाना उड़ानपुल, रेडिसन होटल से मनीषनगर,प्राइड होटल जीरो माइल से खापरी आरओबी तक सीमेंट रोड, नागपुर आऊटर रिंग रोड 61.55 किमी , सीमेंट रिंग रोड, इंदाेरा चौक से अशोक चौक उड़ानपुल, मानकापुर रेलवे अंडर पास, पीली नदी पर दक्षिण भाग में पुल निर्माण, शहर व जिले में केंद्रीय मार्ग निधि से सड़क निर्माण के कार्य किये जायेंगे।

इन कार्यों के लिए िमले 47 हजार करोड मेट्रो रेल प्रकल्प के लिए 8,680 करोड़ रुपये केंद्र सरकार ने मंजूर किये हैं। एम्स के लिए1577 करोड, दीक्षाभूमि के लिए 10 करोड,बुद्धिस्ट सर्किट योजना के लिए 100करोड,अनाधिकृत ले आऊट में नल योजना के लिए 228 करोड, स्कील डेवलपमेंट विद्यापीठ सिंबायसिस के लिए 300 करोड मंजूर किये गये हैं।

-शहर से नई रेल लाइन के लिए 6,317 करोड रुपये मंजूर किये गए हैं। दालमिल व गारमेंट क्लस्टर के लिए 32 करोड, मलीन पानी पुनईस्तेमाल प्रकल्प व बायोगैस निर्माण प्रकल्प के लिए 228 करोड रुपये मंजूर किये गए हैं।

– तीन फेज में सीमेंट सड़क निर्माण कार्य के िलए 700 करोड रुपये मंजूर किये गए है। स्मार्टसिटी प्रकल्प अंतर्गत पारडी, भरतवाड़ा,पुनापुर क्षेत्र के विकास के िलए 1008 करोड,नाग नदी पुनर्जीवन प्रकल्प के लिए 1500करोड, केंद्रीय मार्ग निधि व वार्षिक योजना के तहत काम के लिए 26,438 करोड मंजूर किये गए हैं।

– मेट्रो रेल प्रकल्प के काम शुुरु है। 36 स्थानों पर मेट्रो स्टेशन की जगह निश्चित की है। दिसंबर2018 तक पहले चरण में मेट्रो रेल दौड़ेगी।
ये संस्थाएं आयी शहर में इंडियन इंस्टीट्यूट आफ मैनेजमेंट आईआईएम की स्थापना की गई जिले के वारंगा में ट्रिपल आईटी की स्थापना की गई एम्स अर्थात आल इंडिया इंस्टिट्यूट आफ मेडिकल साइंस की स्थापना की गई। नेशनल इंस्टीट्यूट आफ फार्मास्युटिकल एज्युकेशन एंड रिसर्च अर्थात नाइपर को मंजूरी दी गई महाराष्ट्र राष्ट्रीय विधि विद्यापीठ की स्थापना की गई।

– वाठोडा में 100 एकड़ जमीन पर भारतीय क्रीड़ा प्राधिकरण का िवभागीय केंद्र स्थापित किया गया।