Published On : Sat, Sep 16th, 2017

सीबीएसई के बाद शिक्षा उपसंचालक भी जागे, बच्चों की सुरक्षा को लेकर स्कूलों को जारी किए निर्देश


नागपुर:
 हरियाणा की गुरुग्राम के रायन इंटरनैशनल स्कूल में हुए प्रद्युम्न हत्याकांड के बाद सीबीएसई (केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा मंडल ) ने सर्कुलर जारी कर सभी स्कूलों को सुरक्षा से संबंधित निर्देश दिए थे. साथ ही दिए गए निर्देशों का पालन ना करनेवाले स्कूलों की मान्यता रद्द करने की भी चेतावनी दी गई थी. जिसके बाद अब जाकर नागपुर विभाग के शिक्षा उपसंचालक अनिल पारधी को सुरक्षा से संबंधित सभी स्कूलों को नोटिफिकेशन जारी करने के लिए होश आया है. जारी किए गए इस सूचना में दिया गया है कि जिले की सभी मान्यता प्राप्त स्कूलों में सीबीएसई, आइसीएसई और राज्य शासन की पाठ्यक्रम की स्कूलों में सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएं. स्कूलों के पक्के कंपाउंड होने के साथ स्कूल में किसी भी अपरिचित व्यक्ति को प्रवेश ना देने जैसी हिदायतों का समावेश है. इसी तरह किसी व्यक्ति को बच्चो से मिलने के लिए उसे मुख्याध्यापक या फिर शिक्षक की मौजदूगी में ही मिलने की अनुमति देने और बच्चों को स्कूल में छोड़नेवाले ऑटोचालकों, बसचालकों के पहचानपत्र देने जैसी सूचनाओं का समावेश है.

पुलिस द्वारा चालक और वाहन दोनों का पुलिस वेरिफिएक्शन होने चाहिए. विद्यार्थियों को स्कूल में छोड़नेवाले अभिभावकों या फिर अन्य रिश्तेदारों के साथ स्कूल से बच्चों को लेकर जाने के समय पूरी तस्सली होने के बाद ही बच्चों को उनके साथ भेजें.संभव होने पर बच्चों के स्कूल पहुंचने और स्कूल से निकलकर घर ड्रॉप किए जाने की सूचना संबंधि एसएमएस भेजने की व्यस्था की जाए. बच्चा स्कूल में नहीं आया तो इसकी जानकारी एसएमएस द्वारा उसके अभिभावकों को भेजने होंगे. किसी बच्चे के बर्ताव में अगर बदलाव दिखाई दे तो शिक्षकों ने उस बच्चे पर ध्यान देकर उससे बदलाव के बारे में जानकारी हासिल करे.

यह सभी निर्देश स्कूलों को दिए गए हैं. लेकिन इन निर्देशों में से कितनी स्कूल इसका पालन करेंगे और इन निर्देशों का पालन नहीं होने पर स्कूलों पर क्या कार्रवाई की जाएगी. इसके बारे में शिक्षा उपसंचालक ने कोई भी जानकारी नहीं दी है. शिक्षा उपसंचालक ने निर्देश दिए है कि सभी स्कूलों में सीसीटीवी कैमरे होने चाहिए. लेकिन शिक्षा उपसंचालक यह भूल गए है कि सीबीएसई स्कूलों में सीसीटीवी कैमरे हैं लेकिन राज्य सरकार की स्कूलों में कैमरे लगाने के लिए कोई उपाययोजना है की नहीं इसका खुलासा नहीं मिल पाता.